class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बजट पर रियल स्टेट के कारोबारियों की प्रतिक्रिया

शहर में सक्रिय रियल स्टेट के कारोबारियों को बजट से घोर निराशा हुई। बिल्डरों का कहना है कि मंदी से जूझते रियल स्टेट को संभालने के लिए बजट में कुछ नहीं है।


ग्रेटर नोएडा व गाजियाबाद में रियल स्टेट के प्रोजेक्ट कर रही कंपनी केडीपी इंफ्रास्ट्रक्चर के डॉयरेक्टर मनोज गोयल के मुताबिक बजट से पहले होम लोन कम करने व विभिन्न तरह के टैक्सों में कटौती करने की बात की जा रही थी, जो खोखली साबित हुई। इस बजट से रियल स्टेट की डूबती नाव को सहारा नहीं मिल सकता।


एमएसएक्स बिल्डर्स के चेयरमैन एमएस अग्रवाल ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि छोटे निवेशकों को इससे नुकसान हुआ है। कम पूंजी लगाकर आशियाना बनाने का सपना अब सपना बनकर ही रह गया है। वहीं, बिल्डरों के लिए निर्धारित समय सीमा में अपना प्रोजेक्ट पूरा करना अब चुनौती बन गया है। आवंटियों से किश्तों की उम्मीद करना और तैयार फ्लैटों को बेचना अब मुश्किल है।


कासना बिल्डर्स के चेयरमैन हरीश कसाना ने बताया कि बजट को लेकर बिल्डरों में उत्साह था। ऐसा लग रहा था कि रियायतों के चलते रियल स्टेट का बूम आएगा। लेकिन, बजट घोषित होने के बाद उम्मीद टूट चुकी है। जिस तरह का बजट घोषित किया गया है, उससे छोटे बिल्डरों का बुरा हाल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बजट पर रियल स्टेट के कारोबारियों की प्रतिक्रिया