class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हवाई हमला, सऊदी अरब व इजराइल में सहमति

हवाई हमला, सऊदी अरब व इजराइल में सहमति

इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद के प्रमुख ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को आश्वास दिया है कि भविष्य में ईरान के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई होने पर यदि इजरायली जेट विमान सऊदी अरब की हवाई सीमा से बमबारी करते हैं तो वह इस पर कोई आपत्ति नहीं करेगा।

‘द संडे टाइम्स’ की रिपोर्ट में बताया गया कि वर्ष 2002 से मोसाद के प्रमुख मेइर दागान ने इस वर्ष की शुरूआत में इस बारे में सऊदी अरब के अधिकारियों से गुप्त बातचीत की थी। अखबार ने लिखा कि इजरायली वायु सेना ईरान के मध्य में स्थित नतांज परमाणु स्थल तथा अन्य स्थानों पर संभावित हमले के लिए पिछले चार वर्षों से सैनिकों को प्रशिक्षित कर रहा है।

इजरायल की मीडिया ने देश के उच्च पदस्थ अधिकारियों के हवाले से अपुष्ट खबरों में बताया था कि पूर्व प्रधानमंत्री एहुद ओलमर्ट और सऊदी अरब के प्रधानमंत्री से इस सिलसिले में मुलाकात की थी। हालांकि सऊदी अरब ने इन रिपोर्टों का खंडन किया था।

इजरायल के एक राजनयिक सूत्र ने बताया कि सऊदी अरब ने उसकी हवाई सीमा में इजरायल के जेट विमानों की उड़ान पर सहमति जताई क्योंकि ईरान के खिलाफ कार्रवाई से दोनों के हित सधते हैं। इजरायल और सऊदी अरब के बीच राजनयिक सम्बन्ध न होने के बावजूद दोनों के बीच यह सहमति बनी है। मोसाद ने सऊदी अरब के साथ कामकाजी सम्बन्ध बनाने में सफलता हासिल की है।

अखबार ने लिखा कि संयुक्त राष्ट्र में पूर्व अमेरिकी राजदूत जान बोल्टन ने कहा कि इजरायल द्वारा सऊदी अरब के हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल किया जाना पूरी तरह से तार्किक है। अरब देशों के कई नेताओं से बातचीत कर चुके बोल्टन ने कहा कि यह देश सार्वजनिक रूप से ईरान के खिलाफ कार्रवाई की निन्दा करेंगे लेकिन सचाई यह है कि ईरान के हथियार का खतरा हटने से वे राहत महसूस करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हवाई हमला, सऊदी अरब व इजराइल में सहमति