class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बजट: टैक्स व्यवस्था के मुख्य बिंदू

बजट: टैक्स व्यवस्था के मुख्य बिंदू

- टैक्स से आय 6.41 लाख करोड़ का अनुमान।
-  सब्सिडी 2008-09 के 71 हजार 431 करोड़ से बढ़कर 1,11, 276 करोड़ रुपये।
- राजकोषीय घाटा बढ़कर 6.8 होने का अनुमान।
-राजस्व घाटा 4.8 रहने का अनुमान।
- अप्रैल 2010 से वैट की जगह गुड्स एंड सर्विस टैक्स ( जीएसटी)।
- 45 दिनों में डायरेक्ट टैक्स कोड जारी होगा।
- कॉरपोरेट टैक्स में कोई बदलाव नहीं।
- महिलाओं को आयकर छूट 1.90 लाख रुपये। ( 10 हजार बढ़ा)
- वरिष्ठ नागरिकों के लिए टैक्स सीमा 2.40 लाख रुपये। ( 15 हजार बढ़ा)
- सारे डायरेक्ट टैक्स से सरचार्ज हटा।
- आयकर छूट 1.60 लाख । ( 10 हजार बढ़ा)
- पेंशन स्कीम मैच्योरिटी पर टैक्स देना होगा।
- कॉमोडिटी ट्रांजेक्शन टैक्स (सीटीटी) हटाया गया।
- चुनावी चंदे पर 100 फीसदी छूट।
- फ्रिंज बेनेफिट टैक्स (एफबीटी) हटा।
- निवेश पर नई टैक्स राहत योजना बनेगी।
- वकीलों, डॉक्टरों पर सर्विस टैक्स लगा।
- मालगाड़ी से माल भेजने पर भी सर्विस टैक्स देना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बजट: टैक्स व्यवस्था के मुख्य बिंदू