class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रैड स्लेम के माउंट एवरेस्ट पर पहुंचे फेडरर

ग्रैड स्लेम के माउंट एवरेस्ट पर पहुंचे फेडरर

रोजर फेडरर ने रविवार को नया इतिहास रच दिया। उन्होंने अमेरिका के पीट सम्प्रास के 14 ग्रैंड स्लैम खिताबों का विश्व रिकार्ड तोडने के साथ ही टेनिस इतिहास में अपना नाम स्वर्णाक्षरों में दर्ज करा लिया। फेडरर ने रविवार को अमेरिका के एंडी रोडिक को पांच सेटों तक खिंचे महान मुकाबले में 5-7, 7-6, 7-6, 3-6, 16-14 से हराकर छठी बार विम्बलडन का खिताब जीता और टेनिस इतिहास के महानतम खिलाडी़ होने का गौरव हासिल कर लिया।

फेडरर और रोडिक के बीच रविवार को ऐसा यादगार मुकाबला खेला गया जो टेनिस प्रेमी वर्षों तक याद रखेंगे। फेडरर ने शुरूआती सेट 5-7 से हारने के बाद अगले दो सेट टाइब्रैक में 7-6, 7-6 से जीते। लेकिन अमेरिकी खिलाडी़ ने चौथा सेट 6-3 से जीतकर मुकाबले में 2-2 की बराबरी कर ली और मैच को निर्णायक सेट में खींच दिया।

निर्णायक सेट में दोनों खिलाडि़यों ने सांसों को रोक देने वाला रोमांचक संघर्ष किया। किसी की सर्विस नहीं टूट रही थी और मुकाबला सेट दर सेट आगे बढ़ता चला जा रहा था। आखिरकार 30वें गेम में फेडरर ने मैच में पहली बार रोडिक की सर्विस तोडी़ और खिताब अपने नाम करने के साथ ही 15 ग्रैंड स्लैम जीतने का नया विश्व रिकार्ड बना लिया।

राड लेवर, पीट सम्प्रास और ब्योन बोर्ग जैसे महान खिलाडियों की मौजूदगी में सही मायनों में विश्व के नंबर दो खिलाडी़ फेडरर ने विंबलडन के ग्रास कोर्ट पर नया इतिहास रचा। पूरे मैच में एक अदद सर्विस ब्रेक की तलाश में लगे फेडरर उस समय खुशी से उछल पडे जब 30वें गेम में रोडिक ने एक रिटर्न कोर्ट के बाहर मार दिया। रोडिक का रिटर्न बाहर मारना था कि फेडरर और उनके समर्थक खुशी से उछल पडे। दर्शकों के बीच फेडरर की गर्भवती पत्नी भी मौजूद थी। उन्होंने तालियां बजाकर अपने पति की इस उपलब्धि पर खुशी का इजहार किया।

दूसरी तरफ यह मैराथन मुकाबला खेलने के बाद अपनी हार से मायूस नजर आ रहे रोडिक ने अपना चेहरा झुका लिया। लेकिन उनके लिए हताश होने जैसी कोई बात नहीं है क्योंकि उन्होंने एक महान मुकाबला खेला और टेनिस के नए इतिहास के साक्षी बने। फेडरर ने इससे पहले भी रोडिक को 2004 और 2005 में विंबलडन के फाइनल में हराया था।

लेकिन रोडिक इस बार कुछ ज्यादा बेहतर फार्म में नजर आ रहे थे। पहला सेट 7-5 से जीतने के बाद उन्होंने दूसरे सेट के टाइब्रैक में 5-1 की बढ़त बना ली थी। लेकिन फेडरर ने जबर्दस्त वापसी करते हुए दूसरे सेट का टाइब्रैक 8-6 खिताबी मुकाबला चौथे सेट में समाप्त कर देंगे। लेकिन अमेरिकी खिलाडी़ के इरादे खत्म नहीं हुए थे।

चौथे सेट में छठी वरीयता प्राप्त रोडिक ने अचानक अपने खेल का स्तर उठाते हुए फेडरर पर दबाव बना दिया और महत्वपूर्ण ब्रेक हासिल कर यह सेट 6-3 से जीत लिया। मुकाबला अब बहुत संघर्षपूर्ण हो चुका था। निर्णायक सेट में दोनों खिलाडियों में से कोई भी हार मानने को तैयार नहीं था। फेडरर के मुकाबले रोडिक ज्यादा बेहतर दिखाई दे रहे थे। कई बेजा भूलें निकल रही थी लेकिन सही समय पर वह "ऐस" ठोकते हुए रोडिक को हावी होने का मौका नहीं दे रहे थे। 6.6 की बराबरी हो जाने के बाद नियमानुसार जो खिलाडी लगातार दो गेम जीतता वहीं विजेता बन सकता था।

दोनों ही खिलाडी एक दूसरे की सर्विस नहीं तोड पा रहे थे और मुकाबला खिचता हुआ 14-14 की बराबरी पर पहुंच गया। फेडरर ने 29वें गेम में अपनी सर्विस बरकरार रखी और 15-14 से आगे हो गए। मैच चार घंटे 15 मिनट का हो चला था। 30वें गेम में सर्विस करने रोडिक कोर्ट में उतरे और अचानक ही पहले प्वाइंट से उन पर दबाव दिखाई देने लगा। फेडरर को यहां जीत की सुगंध आने लगी और यहीं उन्होंने कुछ सटीक शाट खेलते हुए रोडिक को गलती करने के लिए मजबूर किया। फेडरर के एक रिटर्न पर जैसे ही रोडिक का शाट बेसलाइन के बाहर पडा वैसे ही चार घंटे 17 मिनट तक चला यह मैराथन संघर्ष समाप्त हो गया।

फेडरर ने इस रोमांचक मुकाबले में जहां 49 ऐस मारे वहीं रोडिक के रैकेट से 26 ऐस निकले। फेडरर का अब रोडिक के खिलाफ 19-2 का करियर रिकार्ड हो गया है। उन्होंने रोडिक से विंबलडन में अब सभी चार मुकाबले जीत लिए हैं। फेडरर ने अपनी इस कामयाबी के बाद हाथ हिलाकर दर्शकों का अभिवादन स्वीकार किया और विजेता ट्राफी उठाकर इतिहास को सलाम किया। अपनी इस सफलता के फेडरर कल जारी होने वाली एटीपी रैंकिंग में फिर से विश्व के नंबर एक खिलाडी़ बन जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ग्रैड स्लेम के माउंट एवरेस्ट पर पहुंचे फेडरर