class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘हमें पाक से विश्वसनीय कार्रवाई का इंतजार’:कृष्णा

‘हमें पाक से विश्वसनीय कार्रवाई का इंतजार’:कृष्णा

मुंबई आतंकी हमलों के साजिशकर्ताओं पर दबाव बनाने को लेकर पाकिस्तान की तरफ से मिल रहे विरोधाभासी संकेतों का भारत बहुत सतर्कता और जिम्मेदारी से मूल्यांकन कर रहा है तथा देश को आतंकियों के खिलाफ विश्वसनीय कार्रवाई का इंतजार है।

जमात उद दावा के नेता हाफिज सईद की रिहाई पर अपनी अस्वीकृति जताते हुए विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने रविवार को कहा कि आतंकवादी साजिशकर्ता सईद की रिहाई के खिलाफ पाकिस्तान सरकार द्वारा एक अदालत में की गई अपील पर भारत को कोई आधिकारिक संदेश नहीं मिला है।

उन्होंने जापान के अपने चार दिवसीय दौरे से लौटते समय कहा कि आतंकवादी हमलों के पीछे जिसका दिमाग रहा, उसे छोड़ दिया गया। हमने नहीं सुना कि पाकिस्तान सरकार इस मामले को एक अपील में उठा रही है। अत: इसकी रोशनी में पाकिस्तान से विरोधाभासी संकेत मिल रहे हैं।

कृष्णा ने कहा कि इन संकेतों का मूल्यांकन करने के लिए भारत को बहुत सतर्क और जिम्मेदार रहना है। पाकिस्तान की तरफ से विश्वसनीय कदमों की भारत की अपेक्षा के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह बहुत सामान्य सी बात है। हम चाहते हैं कि मुंबई हमलों के साजिशकर्ताओं को न्याय के कठघरे में लाया जाए। भारत केवल इसके लिए कह रहा है और हम इंतजर कर रहे हैं।

कृष्णा ने कहा कि मैंने बार-बार कहा है कि यह दिखाई देने वाला और विश्वसनीय होना चाहिए। पाकिस्तान की तरफ से कुछ प्रतिबद्धता होनी चाहिए कि वे मुंबई हमलों के साजिशकर्ताओं को खोज रहे है। उन्होंने कहा कि यदि जरूरत हुई तो वह इस महीने के अंत में मिस्र में गुट निरपेक्ष आंदोलन की शिखरवार्ता से इतर अपने पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी से मुलाकात करेंगे।

कृष्णा ने कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो मैं पाकिस्तान के विदेश मंत्री के साथ मुलाकात करना चाहूंगा। कुछ भी हो हम एक ही छत के नीचे हैं इसलिए देखते हैं कि क्या होता है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान के साथ किसी भी स्तर पर बातचीत करने में भारत कभी हिचका नहीं है।

कृष्णा ने कहा कि मैं नहीं सोचता कि पाकिस्तान में हुए अन्य घटनाक्रम, समांतर घटनाक्रम पाकिस्तान की समग्र वार्ता को आगे बढ़ाने की इच्छा में विश्वसनीयता लाएंगे। अंतरराष्ट्रीय समुदाय की तरफ से भारत को पाकिस्तान से बात करने की सलाह पर कृष्णा ने कहा कि नई दिल्ली ने इस्लामाबाद के साथ बातचीत से कभी न नहीं कहा।

कृष्णा ने कहा कि भारत ने पाकिस्तान से बातचीत के लिए कभी भी न नहीं कहा है। भारत का बहुत ही स्थायी रुख रहा है कि हम बात करेंगे लेकिन हम आतंकवाद के बारे में बात करेंगे। हम आतंकवाद के बारे में विचार विमर्श करेंगे। अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के दौरे के संबंध में कृष्णा ने कहा कि उन्होंने क्लिंटन से बात की है और इसे लेकर आशान्वित हैं। उन्होंने कहा कि इसी महीने क्लिंटन के नई दिल्ली दौरे में वह पाकिस्तान की तरफ से उठ रहे आतंकवाद के मुददे को उठाएंगे।

जब कृष्णा से पूछा गया कि क्या वह पाकिस्तान की तरफ से कार्रवाई नहीं होने पर भारत की अप्रसन्नता से क्लिंटन को अवगत कराएंगे तो उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष अपनी बातचीत में आतंकवाद के मुददे पर ध्यान देंगे। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद पर ध्यान देंगे क्योंकि विदेश मंत्रियों के साथ बातचीत में आतंकवाद गर्मागरम मुददा रहा है इसलिए आतंकवाद से निपटते समय जहिर है पाकिस्तान को महत्वपूर्ण माना जाएगा।

विदेश मंत्री ने पाकिस्तान की इस बात पर सहमति नहीं जताई कि भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर प्रमुख मुददा है। उन्होंने कहा कि मुङो नहीं पता कि मैं भारत-पाक मुददों में कश्मीर को प्रमुख मुददा बताये जाने पर सहमत हूं या नहीं। भारत के पास अपने मुददे हैं। हम कश्मीर मुददे पर पाकिस्तान के साथ वार्ता की अनिच्छा नहीं दिखा रहे। कृष्णा के अनुसार, यह समग्र वार्ता का हिस्सा है इसलिए हम पाकिस्तान से किसी भी मुददे पर वार्ता करना चाह रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘हमें पाक से विश्वसनीय कार्रवाई का इंतजार’:कृष्णा