class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईवीएम से छेड़छाड़ की गुंजाइश हो खत्मः भाजपा

ईवीएम से छेड़छाड़ की गुंजाइश हो खत्मः भाजपा

मतदान में इस्तेमाल होने वाली इलैक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के बारे में एक वर्ग द्वारा सवाल उठाने के संदर्भ में भाजपा ने रविवार को कहा कि महाराष्ट्र और हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले चुनाव आयोग को ईवीएम से छेड़छाड़ की गुंजइश खत्म करनी होगी, अन्यथा मतपत्र के जरिए मतदान कराना उचित होगा।

भाजपा ने स्पष्ट किया कि पार्टी हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में मतदान के दौरान इस्तेमाल की गई ईवीएम के बारे में कोई सवाल नहीं उठा रही। पार्टी के प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने बताया कि यह उम्मीद की जाती है कि चुनाव आयोग इन मशीनों की उचित जांच के बाद देश के नागरिकों को यह सुनिचित कराएगा कि इन मशीनों के साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती और अगर महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव तक यह काम पूरा नहीं होता तो इन राज्यों में मतदान इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन की बजाय मतपत्र पर मोहर लगाकर पुराने तरीके से ही मतदान कराया जाए।

रविशंकर ने कहा कि विभिन्न वर्गों द्वारा ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की आशंका व्यक्त की जा रही थी और हाल ही में दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव उमेश सहगल ने चुनाव आयोग के सामने एक तकनीकी प्रदर्शन के जरिए बताया कि ईवीएम के साथ किस प्रकार से छेड़छाड़ की जा सकती है। उसके बाद चुनाव आयोग ने एक चुनाव उपायुक्त को इस बात की जांच के लिए नियुक्त किया।

प्रसाद ने कहा कि जर्मनी में ईवीएम के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लग चुका है, जबकि अमेरिका में भी ईवीएम के इस्तेमाल के समय कागजी बैकअप अनिवार्य है। दुनिया के अनेक देश फिर से मतपत्र से मत डालने की परंपरा की तरफ वापस लौट रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का यह कहना कि जब तक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की कार्यकुशलता दुरुस्त नहीं हो जाती तब तक मतपत्रों से ही चुनाव कराए जाने चाहिए, इसको कांग्रेस ने कल्पना की उड़ान बताया है।

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने आडवाणी के इन विचारों को खारिज करते हुए एक समाचार चैनल से बातचीत में कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत कोई नई बात नहीं है लेकिन यह सुझाव देना कि इन्हें हटाकर फिर से मतदान पत्रों की शुरुआत करने की बात करना, मेरे समझ से कल्पना से परे है।

उन्होंने कहा कि चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने कहा है कि ईवीएम मशीनों के जरिए चुनाव में धांधलियां करने की संभावनाओं के मद्देनजर एक विशेषज्ञ समिति बनाई गई थी जिसने पाया कि ईवीएम में यह संभव नहीं है।

ज्ञात हो कि आडवाणी ने एक अखबार से बातचीत में कहा था कि जब तक चुनाव आयोग ईवीएम के जरिए चुनावी धांधलियां न किए जाने को लेकर सुनिश्चित नहीं हो जाता तब तक उसे अगले विधानसभा चुनावों में फिर से मतदान पत्रों का इस्तेमाल करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ईवीएम से छेड़छाड़ की गुंजाइश हो खत्मः भाजपा