class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पशुपालन विभाग में बड़े पैमाने पर उलटफेर

पशुपालन विभाग में बड़े पैमाने पर उलटफेर हुआ है। एक ही स्थान पर 25 वर्षो से जमे लगभग दर्जन भर डाक्टरों और अधिकारियों को इस बार बदल दिया गया है तो सैकड़ों ऐसे लोग भी इस चपेट में आए हैं जो दस वर्षों से एक ही स्थान पर कुंडली मारे हुए थे। तबादलों की सूची में राजधानी पटना समेत चार क्षेत्रीय निदेशकों के साथ 475 डाक्टर शामिल हैं तो 399 पशुधन सहायक और 188 पशुधन पर्यवेक्षक भी बदले गये  हैं।


विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार  डा. दुर्गा राम को पटना का क्षेत्रीय निदेशक बनाया गया है। इसी प्रकार डा. प्रबोध कुमार सिंह को दरभंगा, डा. बशिष्ठ राम को पूर्णिया, डा. राम लखन राम को सहरसा का क्षेत्रीय निदेशक बनाया गया है। 18 जिलों के पशु शल्य चिकित्सक और 22 अनुमंडलीय पशुपालन पदाधिकारियों का भी तबादला किया है। विभाग ने पहली बार इतने व्यापक पैमाने पर तबादला किया है। इन तबादलों में 70 प्रतिशत ऐसे अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं जो दस वर्षों से एक ही स्थान पर कुडली मारे बैठे हुए थे। पशुपालन घोटाले के साथ चर्चा में आए इस विभाग के साथ कोई भी अधिकारी उसके बाद से छेड़छाड़ करना नहीं चाह रहा था। यहां पदस्थापित किये जाने वाले हर वरीय अधिकारी किसी तरह सामान्य काम निपटा कर अपने पारी समाप्त होने की प्रतीक्षा में रहते थे। लेकिन इस बार सरकार ने विभाग में लगी जंग को साफ करने की कोशिश की है। खास बात यह है कि इतने व्यापक पैमाने पर तबादला होने के बावजूद विभाग में अब तक कोई शिकयत नहीं पहुंची।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पशुपालन विभाग में बड़े पैमाने पर उलटफेर