class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्वोत्तर को लेकर सरकार गंभीर: चिदंबरम

पूर्वोत्तर को लेकर सरकार गंभीर: चिदंबरम

गृहमंत्री पी चिदंबरम ने असम में हिन्दीभाषी लोगों पर हमलों के मद्देनजर कहा है कि पूर्वोत्तर में विद्रोही समूहों द्वारा फैलाई जा रही हिंसा पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र प्रतिबद्ध है।

उन्होंने बुधवार को कहा कि संसदीय शक्तियां और राज्य पुलिस साथ है लेकिन उनके सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद इस तरह की घटनाएं हिन्दीभाषी लोगों की हत्याएं घटित हुईं। हम विद्रोह से लड़ने के लिए संकल्पबद्ध हैं। हम हिंसा पर काबू पाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

असम में हालिया हिंसा की खबरों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने गैर असमियों की हत्या को चिंता का विषय करार दिया तथा इस बारे में खेद भी व्यक्त किया। चिदंबरम ने कहा कि पूर्वोत्तर में जब तक विद्रोह जारी रहेगा, तब तक इस तरह की घटनाएं होती रहेंगी । लेकिन जब भी इस तरह की घटनाएं होती हैं तो वे बहुत खेदजनक होती हैं । एनडीएफबी के उग्रवादियों ने हाल ही में असम के रंगपाड़ा में चार हिन्दीभाषियों की हत्या कर दी थी।

बांग्लादेश से घुसपैठ के मुद्दे पर गृहमंत्री ने कहा कि सरकार सीमा पर स्थित चौकियों और एकीकृत जांच चौकियों को मजबूत बनाने जैसे अन्य उपाय कर इसे रोकने के लिए कदम उठा रही है। चिदंबरम ने कहा कि हम बाड़बंदी का काम जारी रखे हुए हैं और हम सभी सीमाई एकीकृत जांच चौकियों की नेटवर्किंग कर रहे हैं। इसलिए मेरा मानना है कि भारत में बांग्लादेशियों की अवैध घुसपैठ को रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं और उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग वैध तरीके से आते हैं, उन्हें वीजा खत्म होने पर वापस जाने को कहा जा रहा है। कुछ समस्याएं हैं और इन समस्याओं का समाधान किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूर्वोत्तर को लेकर सरकार गंभीर: चिदंबरम