class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैर के दर्द में दी गई आँख की दवा

स्वास्थ्य मेले में पैर के दर्द वाले मरीज को आँख में डालने की दवा दी गई। इसी तरह चर्मरोगी को बुखार की दवा देकर भेज दिया गया। राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की ओर से लगाए गए दो दिवसीय स्वास्थ्य मेले में कुछ इस तरह मरीजों का इलाज हो रहा है। महिला व पुरुष नसबंदी समेत कई काउंटर खाली पाए गए। वहीं स्वास्थ्य मेले में अव्यवस्था का बोलबाला रहा।


सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पयागपुर में ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की ओर से बुधवार को स्वास्थ्य मेला लगाया गया जो दो दिन तक चलेगा। मेले में आने वाले सैकड़ों मरीजों के स्वास्थ्य का परीक्षण कर उन्हें दवाएँ वितरित की गईं। मेले में हर ओर अव्यवस्था का बोलबाला रहा। कहीं किसी भी व्यक्ति को कोई यह जानकारी देने वाला नहीं था कि किस मर्ज के विशेषज्ञ का काउंटर कहां है। मरीज अपने मनमर्जी से डाक्टरों को खोजकर मिलते उन्हें दवाएं लिख दी जाती। पर्चा लेकर दवा प्राप्त करने के लिए मरीज इधर उधर भटकते रहे। शामियाने के पाण्डाल के नीचे लगाए गए मेले में पंखों की पर्याप्त व्यवस्था न होने के कारण मरीज व डाक्टर दोनों गर्मी से बेहाल रहे। ऐसे में मेले में मरीजों को देखने की खानापूर्ति की गई। मेले का उद्घाटन करने पहुँचे मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरि प्रकाश ने भी कुछ मरीजों को देखकर उन्हें दवाएं वितरित कीं।

मेले में कुछ अजीबोगरीब मामले भी सामने आए। अपना इलाज कराने आए 50 वर्षीय महादेव प्रसाद ने बताया कि उनके पैर में काफी दिनों से दर्द हो रहा था उसकी दवा लेने आए थे। उन्हें छोटी शीशी दे दी गई। मालिश करने पर एक ही दिन में खत्म हो जाएगी। जब उस शीशी को देखा गया तो पता चला कि वह पैर में मलने वाली दवा न होकर ‘आई ड्राप’ है जो आँखों में डाली जाती है। बनकटा गांव से आई दुर्गेश नंदनी के हाथ में धब्बे पड़ गए थे, उन्हें चर्म रोग की दवा के स्थान पर बुखार की गोलियां थमा दी गईं। इसी गांव से आई 45 वर्षीय राकेश कुमारी को फाइलेरिया की बीमारी है। उन्हें डाक्टर की ओर से आँख में डालने वाली दवा दे दी गई। यह देख बुद्धिजीवी स्वास्थ्य विभाग की करतूत पर दंग रह गए। दूसरी तरफ सीएमओ यह दावा करते हैं कि स्वास्थ्य मेला गुरुवार को भी लगा रहेगा। जिसमें विशेषज्ञ चिकित्सकों की ओर से मरीजों का निश्शुल्क इलाज होगा। जिन्हें शल्य चिकित्सा का परामर्श दिया जाएगा, उन मरीजों का आपरेशन जिला चिकित्सालय बहराइच में निश्शुल्क किया जाएगा। इसके लिए मरीजों को स्वास्थ्य मेले का पर्चा देना होगा। स्वास्थ्य मेले में आर्थोपेडिक सजर्न डा. आर.एन. त्रिपाठी, बाल रोग विशेषज्ञ डा. कुंवर रितेश, महिला रोग विशेषज्ञा डा.शिल्पी अनामिका, आई सजर्न डा. जे.के.शुक्ला, पयागपुर के प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक डा.जी.सी. लाल मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पैर के दर्द में दी गई आँख की दवा