class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रांति का स्थगन

भारत में क्रांतियां अक्सर इस स्तर पर असफल हो जाती हैं। सारे क्रांतिकारी तय जगह पर इकट्ठे होते हैं, जहां से उन्हें आखिरी मुहिम छेड़ देनी है। अंतिम आक्रमण करना है। सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं, योजना पूरी बन चुकी है और सब इकट्ठे भी हो गए हैं। नहीं, सब इकट्ठे नहीं हुए हैं। लाल जी (छद्म नाम) अभी तक नहीं आए हैं।

सब लोग उनकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। जिस कमरे में हथियार बंद हैं, उसकी चाबी भी उनके पास है। लाल जी का मोबाइल भी नहीं मिल रहा है। बाकी लोग उत्सुक हैं, तैयार हैं, तभी ताल जी (छद्म नाम) कहते हैं- बड़ी देर लगा दी लाल जी ने। मैं तो जल्दी की वजह से चाय भी पीकर नहीं आया। एक और क्रांतिकारी बोले- अब आप चाय पीने मत चले जाइएगा, वरना फिर आपको ढूंढना पड़ेगा।

ताल जी बोले- नहीं साथी, यहीं चाय की दुकान है, यहीं पी लेते हैं। सारे साथी चाय पीने लगे, तभी लाल जी अपनी स्कूटर पर प्रकट हुए। कुछ लोगों ने कहा- क्या लाल जी बड़ी देर लगा दी। कम से कम जरूरी मौकों पर तो वक्त का ख्याल किया करो। लाल जी बोले- क्या करूं भाई, सुबह उठा तो नल में पानी नहीं। घर में बस एकाध बाल्टी पानी था। सो पहले नलकूप से पानी भरा, नहाया और चला आया। एक साथी बोले- लेकिन आपका मोबाइल भी नहीं मिल रहा था।
लाल जी बोले- उसकी बैट्री डिस्चार्ज हो गई है, चाजिर्ग पर लगाना भूल गया था।

दूसरे साथी बोले- अरे एक दिन न नहाते तो क्या हो जाता, कहीं लिखा है कि क्रांतिकारियों को रोज नहाना चाहिए। लाल जी बोले- भई हमारा तो बिना नहाए नहीं चलता। अच्छा कल एक बात मेरी समझ में आई कि हमारे क्रांति के चार्टर के चैप्टर-10 के उपखंड ‘स’ पर पूरब के किसानों को आपत्ति हो सकती है। हमें हड़बड़ी में ऐसा चार्टर नहीं पेश करना चाहिए, जिससे हमारे समर्थन में कमी हो। दूसरे साथी बोले- वैसे तो पूरे चैप्टर पांच पर छोटे दुकानदार आपत्ति कर सकते हैं।

एक साथी बोले- देखिए हड़बड़ी में गलत-सलत क्रांति करने से बेहतर है, रुक कर थोड़ा विचार कर लिया जाए। अब क्रांति रोज व रोज तो होती नहीं।
दूसरे साथी बोले- हमें अपनी रणनीति पर भी पुनर्विचार कर लेना चाहिए।
एक और साथी ने कहा- जब क्रांति एक बार करनी है तो ठीक से ही की जाए।
उनके नेता ने कहा- तो ठीक है, शाम को पांच बजे मीटिंग रख लेते हैं। मीटिंग साढ़े छह बजे शुरू हुई। मीटिंग के दस्तावेजों में लिखा गया- देश को क्रांति की तुरंत और सख्त जरूरत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रांति का स्थगन