class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने ही जवाब से घिर गयी सरकार, मामला पत्रकार पर हमले का

सदन में अपने ही जवाब पर घिर गयी सरकार। फर्द बयान में नामजद को अज्ञात बताए जाने पर सदस्यों ने सरकार को जमकर घेरा। अंततः मंत्री को यह स्वीकार करना पड़ा कि सरकार को अगर गलत जवाब उपलब्ध कराया गया है तो इसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

पत्रकार राजेन्द्र कमल पर जानलेवा हमले के मामले में बुधवार को विधान परिषद में शंभूशरण श्रीवास्तव के तारांकित प्रश्न पर जल संसाधन मंत्री ने कहा कि पत्रकार के फर्द बयान पर अज्ञात के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है। उनके इस जवाब को चुनौती देते हुए श्रीवास्तव ने सदन में फर्द बयान की कॉपी पेश की और कहा कि बयान में पांच लोगों को नामजद किया गया है और सरकार अज्ञात बता रही है।

इस पर राजद और कांग्रेस के सदस्य भी खड़े हो गए और इसे बेहद गंभीर मामला बताया। श्रीवास्तव ने यह भी कहा कि 1 फरवरी की घटना के बाद अभी तक श्रीकमल से पूछताछ नहीं की गयी है। उन्होंने कहा कि यह जमीन और भू-माफियाओं से जुड़ा मामला है।

प्रेम कुमार मणि ने कहा कि पिछले वर्ष श्री कमल उनसे मिले थे और भू-माफियाओं के बारे में बताया था। इस पर उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था और उनसे कार्रवाई का आश्वासन भी मिला था। मुख्यमंत्री के आश्वासन के छह माह बाद ही पटना के नाला रोड में श्री कमल पर गोली चली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने ही जवाब से घिर गयी सरकार