class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक सर्वे बताएगा वैश्विक आर्थिक संकट का असर

आर्थिक सर्वे बताएगा वैश्विक आर्थिक संकट का असर

संसद में गुरुवार को पेश किया जाने वाला आर्थिक सर्वे, वैश्विक आर्थिक संकट का भारतीय अर्थव्यवस्था पर असर का आकलन पेश करेगा और आर्थिक वृद्धि बढ़ाने के लिए रणनीति बनाने में मदद करेगा। उल्लेखनीय है कि 2008-09 में देश की आर्थिक वृद्धि दर घटकर 6.7 फीसद पर आ गई, जबकि इससे पहले तीन वर्ष के दौरान यह 9 फीसद से अधिक थी।
   

पिछले वर्ष सितंबर के मध्य में अमेरिका के निवेश बैंकर के ढहने के बाद शुरू हुए वैश्विक आर्थिक संकट से भारत सहित विश्वभर की अर्थव्यवस्थाएं बुरी तरह प्रभावित हुईं। अक्तूबर में देश के निर्यात में गिरावट का रुख शुरू हो गया और वित्त वर्ष 2008-09 के दौरान औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर भी गिरने लगी।
   

भारतीय अर्थव्यवस्था पर वैश्विक संकट के असर को कम करने के लिए सरकार ने तीन राहत पैकेजों की घोषणा की। जिससे राजकोषीय घाटा जीडीपी के छह फीसद से ऊपर चला गया, जबकि इससे पहले यह जीडीपी का 2. 5 फीसद रहने का अनुमान जताया गया था।
    

बजट प्रस्तुत करने से पहले वित्त मंत्री द्वारा संसद में पेश किये जाने वाले आर्थिक सर्वे देश की अर्थव्यवस्था के बारे में सरकार के आंकलन, समस्याएं और उससे निपटने के उपाय प्रस्तुत करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक सर्वे बताएगा वैश्विक आर्थिक संकट का असर