class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिकी बोले, महात्मा गांधी हैं न्याय के प्रतीक

अमेरिकी बोले, महात्मा गांधी हैं न्याय के प्रतीक

यह उल्लेख करते हुए कि महात्मा गांधी का नाम दुनियाभर में स्वतंत्रता और न्याय का प्रतीक है, अमेरिकी कांग्रेस के छह सदस्यों ने भारत के राष्ट्रपिता की 140वीं जयंती मनाने के लिए प्रतिनिधि सभा में एक प्रस्ताव पेश किया है।

प्रस्ताव संख्या 603 गत 26 जून को पेश किया गया जिसमें कहा गया कि महात्मा गांधी का नेतृत्व दूरदृष्टि से युक्त था, जिसकी वजह से विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्र अमेरिका तथा विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के बीच मित्रता तेजी से मजबूत हुई।

महात्मा गांधी पर लाया गया प्रस्ताव फ्लोरिडा की कांग्रेस सदस्य इलीना रॉस लेहटीनेन द्वारा प्रायोजित और ईड रॉयसे, जिम मैक्डेर्मट, जो विल्सन, गुस बिलिरकिस तथा डोन मैंजुलो द्वारा सह प्रायोजित है ।

प्रस्ताव में उल्लेख किया गया है कि महात्मा गांधी एक महान राजनीतिक नेता, समर्पित और आध्यात्मिक हिन्दू तथा भारत के राष्ट्रीय आंदोलन के प्रणेता थे। इस प्रस्ताव को प्रतिनिधि सभा की मंजूरी के साथ सदन की विदेश मामलों की समिति के पास भेजा गया है।

इस प्रस्ताव में कहा गया है कि भारत देश तथा इसकी लोकतांत्रिक संस्थाओं की स्थापना में महात्मा गांधी की अद्वितीय और चिर स्थाई भूमिका है, जो आने वाली पीढ़ियों द्वारा हमेशा याद की जाएगी। यह उल्लेख करते हुए कि महात्मा गांधी ने भारत को विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र बनाने में मदद की। अमेरिकी सांसदों ने प्रस्ताव में कहा है कि उनकी विचारधारा और अहिंसक सविनय अवज्ञा आंदोलन ने मानवता के भले के लिए विश्वभर के लोगों प्रभावित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अमेरिकी बोले, महात्मा गांधी हैं न्याय के प्रतीक