class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर से खुली मिल, मजदूरों ने बांटी मिठाई

कानपुर में अभी मॉनसून ने तो दस्तक नहीं दी है लेकिन 22 दिन की बंदी के बाद मंगलवार को जेके जूट मिल के दोबारा खुलने से वहां काम करने वाले हजारों मजदूरों के चेहरों पर खुशी की फुहार जरूर पड़ गई है । मिल खुलने की खुशी में मजदूरों ने आज मिठाई बांट कर अपनी रोजी रोटी वापस पाने का जश्न मनाया ।

गौरतलब है कि जेके जूट मिल के प्रबंधकों ने 8 जून 2009 को मिल की बंदी की घोषणा करते हुए कहा था कि मजूदरों द्वारा काम में लापरवाही और प्रबंधन को परेशान करने के कारण मिल प्रबंधन को बंदी का कड़ा फैसला लेना पड़ा था।

मिल प्रबंधकों का कहना है कि कर्मचारी मिल की क्षमता से पचास फीसदी कम उत्पादन कर रहे थे और टाइम पास कर रहे थे जिससे भारी घाटा उठाना पड़ रहा था। इसलिए मजबूरी में मिल को बंद करने का फैसला करना पड़ा ।

गत 26 जून को मिल प्रबंधन, मजदूरों और श्रम विभाग के अधिकारियों के बीच एक समझौता हुआ जिसके बाद 29 जून को मिल खोले जाने की घोषणा की गईलेकिन उस दिन बिजली न मिल पाने के कारण इसे मंगलवार को खोला गया ।

कानपुर के सहायक श्रमायुक्त एस पी गुप्ता ने बताया कि सोमवार शाम मिल प्रबंधन ने बकाया 38 लाख रूपये का बिजली बिल जमा कर दिया जिसके बाद केस्को ने मिल की कटी हुई बिजली उस शाम जोड़ दी और मंगलवार से मिल की बंदी समाप्त हो गई । मजदूर एक बार फिर मिल में काम करने लगे हैं ।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर से खुली मिल, मजदूरों ने बांटी मिठाई