class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीजल अनुदान योजना, एक से 31 जुलाई के बीच किसानों में बंटेगा मुआवजा

दिन में कैबिनेट की बैठक में फैसला हुआ और रात नौ बजे तक जिलों में पहुंच गई राशि। आम तौर पर आवंटन देने के लिए संचिका का वजन तौलने वाले बाबू जिलों से आनेवाले अधिकारियों की राह देखते रह गये। मुख्यालय से फैक्स पहुंचने लगे तो जिलाधिकारी भी भौंचक।

उन्हें तो अभी सरकारी फैसले की भी जानकारी नहीं थी। सरकार ने संजीदगी का यह नमूना पेश किया है किसानों को दिये जाने वाले डीजल अनुदान के मामले में। किसान भी अभी फार्म का प्रारूप देखने के लिए अखबारों में छपने वाले विज्ञापन की प्रतीक्षा ही कर रहे हैं कि उनके पास दरवाजे पहुंच गया फार्म।

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राशि की कमी न हो इसके लिए कुल आवंटन 26.62 करोड़ रुपये एक साथ जिलों में भेज दिए गए। किसानों को मुआवज एक जुलाई से 31 जुलाई के बीच दिया जाएगा। एक एकड़ भूमि की एक बार सिंचाई के लिए 150 रुपये किसानों को दिये जाएंगे। अधिकतम दो सिंचाई के लिए तीन सौ रुपये प्रति एकड़ मिलेंगे।

डीजल अनुदन किसानों को समय पर मिले इसके लिए सरकार ने इस बार सारी प्रक्रियाओं को हाथोहाथ पूरा करा लिया। अधिकारी बताते हैं कि ऐसा संभवत पहले कभी नहीं हुआ कि कैबिनेट के फैसले के दिन ही आवंटन जिलों में पहुंच जए।

हर काम में यह संभव भी नहीं है क्योंकि कैबिनेट के बाद कई तरह की जरूरी प्रक्रियाओं से संचिका को गुजरना होता है जिनमें कम से कम एक सप्ताह का समय लगना ही है। लेकिन सरकार स्तर से ही इसकी मॉनिटरिंग हो रही है कि किसानों को मुआवज मिला या नहीं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक से 31 जुलाई के बीच किसानों में बंटेगा मुआवजा