class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार अभियंता सेवा संघ हड़ताल पर आमादा

बिहार सरकार ने लोक निर्माण विभाग के सीतामढ़ी के कार्यपालक अभियंता योगेन्द्र पांडेय की संदिग्ध मौत की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दी है लेकिन बिहार अभियंता सेवा संघ (बेसा) अभी तक प्रस्तावित हड़ताल करने पर आमादा है।

बेसा का कहना है कि अगर सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक के खिलाफ  कार्रवाई नहीं  की जाती तो दो जुलाई से प्रस्तावित अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी। बेसा के महासचिव राजेश्वर मिश्र ने सोमवार को बताया कि पांडेय की हत्या के मामले में अभियंता किसी हाल में झुकने को तैयार नही हैं।

मिश्र ने कहा, ‘‘ सरकार ने सीबीआई से जांच की मांग मान ली है लेकिन अगर वह सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक छत्रनील सिंह के खिलाफ  कार्रवाई नहीं करती है तो संघ अगले महीने की दो तारीख से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हम अडिग है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि पांडेय की कथित हत्या में पुलिस अधीक्षक की मिलीभगत है।

उन्होंने कहा कि राज्य के लोक निर्माण मंत्री प्रेम कुमार द्वरा दिवंगत के परिवार को एक लाख रुपये का मुआवजा, सेवानिवृत्ति की तिथि तक पूरा वेतन और पेंशन के प्रस्ताव से भी उनका बेसा संतुष्ट नहीं है।

उल्लेखनीय है कि सीतामढ़ी जिलाधिकारी कार्यालय के भवन की तीसरी मंजिल से पांडेय ने 18 जून को कथित तौर पर कूदकर जान दे दी थी। इसी मसले पर बेसा से जुड़े अभियंताओं ने 21 जून से कामकाज का बहिष्कार कर रखा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार अभियंता सेवा संघ हड़ताल पर आमादा