class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विदेशी कंपनी को क्रियात्मक साझेदार बना सकती है बीएसएनएल

विदेशी कंपनी को क्रियात्मक साझेदार बना सकती है बीएसएनएल

सार्वजनिक दूरसंचार कंपनी किसी मजबूत विदेशी दूरसंचार कंपनी को क्रियात्मक सहयोगी बनाने के एक प्रस्ताव पर विचार कर रही है। इस कदम से कंपनी को सूचीबद्धता या विनिवेश प्रक्रिया की तुलना में भी अधिक राशि मिल सकती है।

कंपनी की सूचीबद्धता प्रक्रिया तथा कर्मचारी संगठनों से बातचीत प्रक्रिया में शामिल रहे एक सूत्र ने यह जनकारी दी। उन्होंने कहा है कि एक क्रियात्मक सहयोगी बेहतर विकल्प होगा। सरकार इस विचार के पक्ष में है।

 बीएसएनएल का मूल्यांकन लगभग 100 अरब डालर का किया गया है जबकि इसकी चुकता पूंजी लगभग 5,000 करोड़ रुपये की है।बीएसएनएल में विनिवेश या क्रियात्मक साझेदार शामिल करने का प्रस्ताव इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि इसकी कुल आय और शुद्ध लाभ दोनों घट रहे हैं।

कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 38,000 करोड़ रुपये की आय पर 3,000 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया जबकि इस साल इन दोनों में ही गिरावट का अनुमान व्यक्त किया जा रहा है। सूचीबद्धता तथा विनिवेश के बजय विदेशी क्रियात्मक साझेदार को वरीयता दिए जाने की वजह के बारे में उन्होंने कहा कि अगर विदेशी साझेदार आता है तो उसका प्रबंधन में हस्तक्षेप होगा और वह कंपनी की कार्यसंस्कृति को बदलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विदेशी कंपनी को क्रियात्मक साझेदार बना सकती है बीएसएनएल