class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालगढ़ पूरी तरह से मुक्तः सुरक्षा बल

लालगढ़ पूरी तरह से मुक्तः सुरक्षा बल

सुरक्षा बलों ने लालगढ़ से माओवादियों को खदेड़ते हुए उनको इस क्षेत्र से भगाकर अपना कब्जा जमा लिया है। इस सफलता के बाद अब 4 साल बाद सुरक्षा बल यहां पर अपनी चौकियां स्थापित करेंगे।

इससे पहले पश्चिम मिदनापुर में माओवादियों के कब्जे वाले क्षेत्रों को मुक्त करने के लिए सुरक्षा बलों ने लालगढ़ और रामगढ़ के दोनों सिरों से सोमवार को कांटापहाड़ी की ओर कूच किया और बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए लालगढ़ पर अपना कब्जा जमा लिया।

सुरक्षा बलों के साथ अभियान में शामिल सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीआरपीएफ, बीएसएफ और राज्य सशस्त्र पुलिस और इंडिया रिजर्व बटालियन के 1600 कर्मियों का दल सुबह सात बजे लालगढ़ और रामगढ़ से दल बल के साथ रवाना हुए। कोबरा बलों के लगभग 180 कर्मी भी केंद्रीय बलों और राज्य पुलिस के साथ इलाकों विशेषकर जंगलों को सुरक्षित करने के लिए रवाना हुए। आसमान से माओवादियों का पता लगाने के लिए एक हेलीकाप्टर भी तैनात किया गया था।

खुफिया सूत्रों ने बताया, कांटापहाड़ी पर कब्जा हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण क्योंकि पश्चिम मिदनापुर जिले में यह माओवादियों के प्रतिरोध का महत्वपूर्ण गढ़ है। खुफिया सूत्रों ने बताया कि कांटापहाड़ी के अलावा आस-पास के बोरोपेलिया, छोटोपेलिया और दलीलपुर चौक में भारी संख्या में माओवादियों का जमावड़ा था, वे आदिवासियों का समर्थन कर रहे थे। नवंबर में पुलिस अत्याचारों के खिलाफ यहां से असंतोष उपजा था। बोरोपेलिया पीपुल्स कमिटी अगेंस्ट पुलिस एट्रोसिटीज (पीसीपीए) के संयोजक छत्रधर महतो का पैतृक गांव है। महतो की सुरक्षा बलों को तलाश है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लालगढ़ पूरी तरह से मुक्तः सुरक्षा बल