class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लो जी, आ गया थ्री-जी और फोर-जी

वर्तमान में आपके पास थ्रीजी फोन के कई विकल्प मौजूद हैं। बीएसएनएल और एमटीएनएल थ्री जी पर पिछले वर्ष से काम कर रहे हैं। कम कीमतों के अलावा बीएसएनएल और एमटीएनएल ने थ्री जी की दिशा में कोई अभूतपूर्व कार्य नहीं किया है, लेकिन बाजार में थ्रीजी और उसके आस-पास के कुछ अन्य विकल्प मौजूद हैं। वित्त मंत्रालय ने थ्रीजी स्पैक्ट्रम की नीलामी को मंजूरी दे दी है। एयरटेल, रिलायंस और अन्य प्राइवेट प्लेयर इस होड़ में हैं।

थ्रीजी क्यों ?
सभी मोबाइल फोनों में वॉयस कॉल बेहतर होती हैं, लेकिन ज्यादातर में डाटा को लेकर मुश्किलें होती हैं, खासकर हैवी स्टफ जैसे फाइल डाउनलोड करना, बड़ी ई-मेल भेजना और रिसीव करना, ग्राफिक्स और वीडियो में। इस लिहाज से थ्री जी फायदेमंद है। वर्तमान मोबाइल फोन की तुलना में थ्री जी फोन द्वारा आप फाइल और वीडियो को ज्यादा तेज गति से डाउनलोड कर सकेंगे।

थ्री जी और थर्ड जनरेशन तकनीक का ऐसा समूह है, जिसके  द्वारा आप पुराने टूजी जीएसएम मोबाइल के मुकाबले बेहतर स्पीड का लुत्फ उठा सकेंगे। कई समूहों की तकनीक मिलकर एक बड़े क्षेत्र में बेहतर स्पीड का वायरलैस कनेक्शन प्रदान करती है जिसमें सीडीएमए 2000, यूएमटीएस (यूनीवर्सल मोबाइल टेलीकम्युनिकेशन सिस्टम) और वाईमैक्स की सुविधा शामिल है। ये एक बड़े क्षेत्र में वायरलैस कनेक्शन की सुविधा देते हैं।

क्यों होगी जरूरत ?
दस हजार रुपए कीमत वाले तकरीबन सभी आधुनिक फोन में आप थ्री-जी सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। थ्रीजी सुविधा प्रदान करने वाले बीएसएनएल और एमटीएनएल की सíवस अभी सीमित क्षेत्रों में हैं। उदाहरण के तौर पर मैं एमटीएनएल के थ्रीजी मॉडम का इस्तेमाल अपने लैपटॉप पर करता हूं, लेकिन गुड़गांव और दिल्ली के अधिकतर इलाकों में ये थ्रीजी स्पीड से काम नहीं करते। ये तकरीबन उसी स्पीड से काम करते हैं, जैसे आपका पुराना डाटा कार्ड काम करता था।

लेकिन इन स्थितियों में तब बदलाव होगा, जब एयरटेल जैसी टेलीफोन कंपनियां थ्रीजी सेवा प्रदान करना शुरू कर देगी। वर्तमान में अगर आप हाईस्पीड चाहते हैं, तो आप रिलायंस या टाटा इंडिकॉम के हाई-स्पीड डाटा कार्ड या प्लग इन यूएसबी खरीद सकते हैं। ये कंपनियां तकरीबन 3 एमबीपीएस की डाउनलोड स्पीड प्रदान करती है। यह थ्री जी सíवस ही है। चूंकि फोन पर वह ये सुविधा नहीं दे सकती है, ऐसे में वह डाटा कार्ड में थ्रीजी स्पीड प्रदान कर रही है। 

थ्री जी तकनीक
थ्री जी तकनीक ने मोबाइल की दुनिया को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। इस तकनीक में स्पैक्ट्रल क्षमता में बदलाव कर मोबाइल फोन की क्षमता को सुधारा गया है। इस फोन पर ही आप हाई स्पीड इंटरनेट एक्सेस, डाटा वीडियो और सीडी क्वालिटी की म्यूजिक सíवस के साथ न्यूज चैनल भी देख सकते हैं। थ्री जी फोन सबसे पहले 2001 में जापान में लांच किया गया था। थ्री जी फोन पर व्यक्ति का चेहरा अपने मोबाइल की स्क्रीन पर देख सकते है और अगर बात करने वाले के पास थ्री जी फोन हो, तो एक दूसरे को देखते हुए बात कर सकते हैं।

4 जी तकनीक
वायरलैस कंपनियों ने फोर जी तकनीक मुहैया कराने की बात कर बाजार में हलचल मचा दी है। वहीं चीन इस बात का दावा भी कर रहा है कि उसने फोर जी तकनीक को विकसित कर लिया है। 

क्या है तकनीक
फोर जी वायरलैस सेवा की चौथी पीढ़ी है। थ्री जी तकनीक में ओएफडीएमए (आर्थोगोनल फ्रीक्वेंसी डिविजन मल्टीपल एक्सेस) की सहायता से नेटवर्क की सुविधा को और बेहतर बनाया जा सकेगा। फोर जी पूरी तरह से आईपी आधारित सेवा होगी। इसमें वॉयस, डाटा और मल्टीमीडिया को समान गति से भेज और रिसीव किया जा सकेगा।

थ्री जी से कैसे बेहतर
फोर जी की गति 100 एमबीपीएस होगी, जो कि थ्री जी के मुकाबले 50 गुना अधिक होगी। थ्री जी वायरलेस नेटवर्क में 384 केबीपीएस से 2 एमबीपीएस की गति से ही डाटा भेज ज सकता था। इसकी तकनीक की कीमत भी थ्री जी के मुकाबले कम होगी। थ्री जी के मुकाबले फोर जी का डाटा रेट ज्यादा है यानी डाटा का ट्रांसफर तेज गति से किया ज सकेगा। थ्री जी तकनीक जहां वाइड एरिया नेटवर्क कांसेप्ट पर काम करती है, जबकि फोर जी लोकल एरिया नेटवर्क (लेन) और बेस स्टेशन वाइड एरिया  नेटवर्क पर काम करती है।

फायदा

-यूजर को हाई क्वालिटी आडियो और वीडियो सुविधा उपलब्ध होगी

-ओएफडीएम के कारण बेहतर वीडियो क्वालिटी लोगों को मिल पाएगी

-स्पीड यूनीफॉर्म हो जाएगी। जितनी तेजी के साथ डाटा भेज जाएगा उतनी तेजी से रिसीव।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लो जी, आ गया थ्री-जी और फोर-जी