class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फैक्टरियां बंद होने से रविवार को खपत रही 540 एमवीए

पिछले छह दिन से जारी बिजली संकट रविवार को कुछ कम दिखा। अवकाश का दिन होने के कारण शहर की ज्यादातर कंपनियां बंद रहीं। इस वजह से बिजली की मांग काफी कम रही। आसमान में बादल छाने से तापमान में कुछ गिरावट हुई। इससे ट्रांसफॉर्मरों के ओवर हीट होने और फूंकने की घटना से भी राहत मिली। वहीं तेज गर्मी से वाटर लेबल नीचे चले जने के कारण अर्थिग की समस्या हो गई है। इससे निपटने के लिए ट्रांसफॉर्मरों के आसपास पानी डालकर अर्थिग दी जा रही है।


एक सप्ताह से झुलसाऊ गर्मी ने यहां की बिजली व्यवस्था को चरमरा कर रख दिया है। नोएडा में बने 33 केवी के सभी सब स्टेशन ओवरलोडिंग की समस्या से जूझ रहे हैं। ओवरलोडिंग के कारण लाइनें ट्रिप हो रही है। सोमवार से शनिवार तक फैक्टरियां व कंपनियों के खुले होने के कारण बिजली की खपत काफी बढ़ गई थी। डिमांड व सप्लाई में तकरीबन सौ एमवीए का अंतर होने के कारण शहर के सभी सेक्टर व गांवों में जबरदस्त बिजली कटौती हुई। अवकाश होने के कारण रविवार को बिजली की खपत साढ़े छह सौ एमवीए से घटकर 540 एमवीए रही। दोपहर के समय कुछ सेक्टरों में दो से तीन घंटे की ही बिजली कटौती हुई। हालांकि पारा चढ़ने पर आज से फिर बिजली संकट हो सकता है।


वहीं वाटर लेबल घट जाने के कारण ट्रांसफॉर्मरों को प्रॉपर अर्थिग न मिल पाने के कारण फ्लगचुएशन की समस्या हो गई थी। इससे लोगों के उपकरण फुंक रहे थे। यह समस्या सेक्टर-44, 52, 33, 49, 61, 62, 63 में ज्यादा हो रही थी। इन सेक्टरों में लगे ट्रांसफॉर्मरों के आसपास पानी डालकर अर्थिग दी गई। इससे फ्लगचुएशन क घटना से थोड़ी राहत मिली। वहीं पारे के गिरने से ट्रांसफॉमर के ओवरहीट होने की समस्या कम रही। अधीक्षण अभियंता के जी पुरी ने आश्वस्त किया कि मौजूदा संसाधनों से नोएडावासियों को ज्यादा से ज्यादा सप्लाई दी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फैक्टरियां बंद होने से रविवार को खपत रही 540 एमवीए