class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब शपथ पत्र बने हथियार

कुछ ही दिनों बाद नया शिक्षा सत्र शुरू हो जाएगा। स्कूली शिक्षा पूरी कर नए छात्र विभिन्न कॉलेजों में प्रवेश लेंगे। इसके साथ ही उनके साथ रैगिंग की आड़ में अत्याचार शुरू हो जाएंगे। अगर विश्वविद्यालय कॉलेज में सभी प्रवेश लेने वाले नए छात्र-छात्राओं तथा पुराने सीनियर छात्र-छात्राओं से स्टाम्प पेपर पर शपथ-पत्र भरवा लें कि कोई भी छात्र रैगिंग में लिप्त पाया जाता है तो उसे विश्वविद्यालय से जुड़े किसी भी कॉलेज में पांच साल तक प्रवेश नहीं मिलेगा। इस स्टाम्प पेपर पर छात्र-छात्राओं के माता-पिता के भी हस्ताक्षर हों तथा नोटरी से प्रमाणित करवाया गया हो। तो कुछ बात बन सकती है। क्या ये संभव नहीं है?
युधिष्ठिर लाल कक्कड़, गुड़गांव

धंधा है पर गन्दा है
यूपी के लखीमपुर खीरी जिले में रेलवे पुलिस के दो सिपाहियों ने एक गर्भवती गरीब महिला को उसकी तीन साल की मासूम बच्ची के साथ सौ रुपए रिश्वत न देने के कारण चलती रेलगाड़ी से धकेल दिया, जिससे महिला की उसी समय गाड़ी से कटकर मौत हो गई और उसकी मासूम बच्ची बच गई। पैसे की इस अंधी होड़ में न जाने यह बर्बरता कहां तक पहुंच गई है। सभी लोग तो एक जैसे नहीं होते लेकिन जितनी दागदार खाकी वर्दी होती चली जा रही है, शायद दूसरा कोई हो। आज खाकी वर्दी, सफेद कोट और काला कोट यानी पुलिस, डॉक्टर और वकील पैसे कमाने की अंधी दौड़ में एक जैसे होते जा रहे हैं। प्राइवेट अस्पतालों के डॉक्टर मृत को भी कई दिन तक वेन्टीलेटर पर रख कर लाखों का बिल झाड़ लेते हैं। इसी तरह वकील भी लम्बी-चौड़ी डींगें हांक कर मोटी फीस ऐंठ लेते हैं।
वेद, मामूरपुर, नरेला, दिल्ली

अरब पर पैंतीस भारी
एक अंतरराष्ट्रीय सव्रे के मुताबिक दुनिया की सबसे बड़ी विषमता भारत में पाई जाती है, जहां पैंतीस खरबपतियों की दौलत उस देश के अस्सी करोड़ भूमिहीन किसानों, मजदूरों व शहरी गंदी बस्तियों के लोगों की कुल दौलत से ज्यादा है।
रवि गुप्ता, नोएडा, गौतमबुद्ध नगर

सावधान! ये प्राचीन धरोहर है
ऐतिहासिक महरौली के मशहूर प्राचीन शमशी तालाब की दुर्दशा देखते ही दिल दहल जाता है। यह तालाब कभी स्वच्छ जल से भरा रहता था, जिसे देखकर दिलो-दिमाग प्रसन्न हो जाता था। पिछले तीन दशक से इस तालाब में मल-मूत्र भरा रहता है, उससे तालाब की सुंदरता तो बिगड़ ही रही है साथ ही क्षेत्र का वातावरण इतना प्रदूषित हो चुका है कि समय-समय पर बीमारियों में भी इजफा हो रहा है। समय रहते इस तालाब में आस-पास के बहते मल-मूत्र को न रोका गया तो भयंकर महामारी भी फैल सकती है, जिससे क्षेत्र की जनता के लिए भारी खतरा पैदा हो सकता है।
रोशनलाल बाली, महरौली, नई दिल्ली

माया की माया
चंदन लेप लगाय के
सर्प लियो लपटाय
तन-मन-धन
की तस्करी
माया समझ न आय।
शरद जायसवाल, कटनी, म. प्र.

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जब शपथ पत्र बने हथियार