class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चतुर्थ श्रेणी कर्मियों के आवासों का औचक निरीक्षण

आईआरआई व सिंचाई परिकल्प संगठन के करीब दो दजर्न चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के  आवासों का शनिवार को विभागीय अधिकारियों की एक टीम ने औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि करीब दजर्न भर कर्मियों ने आवंटित हुए सरकारी आवासों को किराये पर चढ़ा दिया है। जबकि लगभग दर्जन भर आवास बंद पाए गए हैं। चार-पांच आवासों में विभागीय कर्मियों के रिश्तेदार मिले। निरीक्षण करने वाली टीम सोमवार तक चीफ इंजीनियर को मामले की रिपोर्ट सौंपेगी। इस रिपोर्ट के बाद करीब दो दर्जन विभागीय कर्मचारियों का आवास आवंटन रद्द होना तय है।


मालूम हो कि शुक्रवार को रुड़की दौरे के दौरान सिंचाई मंत्री मातवर सिंह कंडारी से कुछ चतुर्थ श्रेणी विभागीय महिला कर्मियों ने शिकायत की थी कि उन्हें आवास सुविधा से वंचित रखा गया है। जबकि कई कर्मचारियों ने आवंटित आवासों को किराये पर चढ़ा दिया है। इस मामले का संज्ञान लेते हुए मंत्री ने विभाग के चीफ इंजीनियर एससी शर्मा को तत्काल इस मामले की जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए। मंत्री के निर्देशों पर शनिवार को मुख्य अभियंता ने अधिशासी अभियंता जगमोहन सुयाल, चंद्रभान सिंह तथा प्रभारी अनुसंधान अधिकारी एसी पांडे की टीम गठित कर मामले की जांच के निर्देश दिए।
शनिवार को ही इस टीम ने आवासों का औचक निरीक्षण करके कार्रवाई को अंजाम दिया। निरीक्षण में पाया गया कि करीब दर्जन भर कर्मचारियों ने आवास किराये पर चढ़ा दिए हैं। इतने ही आवास लगभग बंद पाए गए हैं। इनमें अरसे से कोई कर्मचारी नहीं रह रहा है। लगभग आधा दजर्न आवासों में कर्मियों के रिश्तेदार मिले। जांच टीम लगभग सोमवार को अपनी रिपोर्ट चीफ इंजीनियर एससी शर्मा को सौंपने जा रही है। मामले की पुष्टि करते हुए चीफ इंजीनियर एससी शर्मा ने कहा कि निरीक्षण में जिन सरकारी आवासों का दुरूपयोग होता पाया गया है, उनका आवंटन रिपोर्ट मिलते ही रद्द कर दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चतुर्थ श्रेणी कर्मियों के आवासों का औचक निरीक्षण