class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जैक्सन से जुड़े सवालों को गूगल ने समझा वायरस

जैक्सन से जुड़े सवालों को गूगल ने समझा वायरस

पॉप स्टार माइकल जैक्सन के निधन के बाद दुनियाभर के लोगों द्वारा इंटरनेट पर उनके बारे में पूछी जा रही जानकारी से गूगल न्यूज गफलत में पड़ गया। इंटरनेट यूजर्स की भारी बाढ़ के चलते इस सर्च इंजन को लगा कि उस पर कोई वायरस हमला हो गया है।

गूगल ने कंपनी की वेबसाइट के ब्लॉग पोस्ट में कहा कि गुरुवार को पॉप स्टार माइकल जैक्सन के अस्पताल में भर्ती होने और उनके निधन के बारे में जानकारी लेने के लिए दुनियाभर के लाखों लोगों ने इंटरनेट पर सर्च करना शुरू कर दिया। जैक्सन के बारे में जानकारी मांगने वालों की ज्वालामुखी जैसी बाढ़ आ गई।

गूगल ने कहा कि माइकल जैक्सन से संबंधित सर्च इतनी बड़ी थी कि गूगल न्यूज गफलत का शिकार हो गया और उसने इसे कोई वायरस हमला समझ लिया। वेबसाइट ने कहा कि इसका परिणाम यह निकला कि शुक्रवार को जब कुछ लोगों ने माइकल जैक्सन के बारे में गूगल न्यूज पर सर्च किया तो पॉप स्टार से संबंधित जानकारी मिलने से पहले उन्हें वी आर सॉरी हमें खेद है पेज दिखा।

‘वी आर सॉरी पेज’ यूजर्स से यह कहता है कि उनके द्वारा मांगी गई जानकारी कंप्यूटर वायरस या स्पाईवेयर एप्लीकेशन से भेजे जाने वाले स्वतः आग्रह से मिलती-जुलती है। इसमें जानकारी मांगने वाले के आग्रह पर प्रक्रिया शुरू होने से पहले उससे कुछ वर्ण लिखने को कहा जाता है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि जानकारी मांगने वाला कंप्यूटर वायरस नहीं, बल्कि कोई आदमी ही है।

माइकल जैक्सन के निधन के बारे में प्रत्येक मिनट में हजारों संदेश मिलने के कारण लोकप्रिय माइक्रो ब्लॉगिंग सर्विस ट्विटर की प्रक्रिया भी काफी धीमी हो गई। वेब पोर्टल एओएल ने कहा कि संदेशों की भरमार के चलते लगभग 40 मिनट तक उसकी सेवा की गति भी धीमी रही। याहू ने कहा कि माइकल जैक्सन की मौत के चलते उसके प्रथम पृष्ठ के समाचार क्षेत्र पर सामान्य की तुलना में पांच गुना अधिक संदेश और आग्रह मिले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जैक्सन से जुड़े सवालों को गूगल ने समझा वायरस