class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राबड़ी देवी ने बुलाई विरोधी दलों की बैठक, प्रश्न काल को बाधित नहीं करने का फैसला

हमेशा की तरह इस बार भी जब सभी विपक्षी दलों के नेता एक साथ बंद कमरे में जुटे तो लोगों को उम्मीद थी कि सरकार को घेरने को लेकर कोई हमलावर फैसला होगा। लेकिन बैठक के खत्म होने के बाद विपक्षी दलों के विधायक जब राबड़ी देवी के कक्ष से बाहर निकले तो सबके चेहरे तनावमुक्त थे।

इन नेताओं ने ऐलान किया कि इस बार विधानसभा में विपक्ष केवल विरोध करने के लिए सरकार का विरोध नहीं करेगा बल्कि जनता के मुद्दे मजबूती के साथ उठायेगा। आंख मूंदकर विरोध नहीं, सदन में जनता की आवाज बनने के लिए विरोध होगा। माकपा के रामदेव वर्मा ने तो यहां तक कह दिया कि सदन में पहली बार विपक्ष अपनी पूरी भूमिका के साथ मौजूद रहेगा।

बैठक में यह भी तय हुआ कि विपक्षी दलों के विधायक प्रश्न काल को भी बाधित नहीं करेंगे। पिछले दो सत्रों से प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष सदन से या तो वाक आउट करता रहा है या किसी न किसी कारण से इसे बाधित करता रहा है। लेकिन इस बार तय हुआ है कि प्रश्नकाल के दौरान जो प्रश्न आम जनता से जुड़े होंगे उनको लेकर सभी दल मुखर रहेंगे।

अगर सत्ता पक्ष की तरफ से भी जनता से जुडा कोई मामला उठता है तो विपक्ष के सदस्य इसे पकड़ लेंगे। इसके अलावा सरकार की विफलता को भी सभी विपक्षी दल मिलकर मजबूती से उजागर करेंगे। वसे हर विपक्षी दल को यह आजदी होगी कि  वह कोई अपना मसला अलग से उठा सकता है।

बैठक में राजद के मुख्य सचेतक रामचन्द्र पूर्वे, कांग्रेस विधायक दल के नेता डा. अशोक कुमार, लोजपा विधायक दल के नेता महेश्वर सिंह और बसपा के रामचन्द्र प्रसाद यादव समेत कई अन्य नेता उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जनता के मुद्दों पर एकजुट रहेगा विपक्ष