class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा

अब दूनवासियों के लिए अपने पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा। यदि कोई ऐसा नहीं करता तो उसे जुर्माना भरना पड़ सकता है। वहीं शहर के आवारा कुत्तों को पकड़ने के लिए नगर निगम अभियान चलाएगा। आवारा कुत्तों के काटने की बढ़ती घटनाओं पर लगाम कसने के लिए मेयर विनोद चमोली ने गुरुवार एक बैठक की। उन्होंने कहा कि शहर में आवारा कुत्तों की बढ़ती जनसंख्या पर रोकने के लिए उचित व्यवस्था की जानी जरूरी है। लोग अपने कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराएं और जो ऐसा नहीं करता उसके खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। 

चमोली ने स्वंय सेवी संस्थाओं से आह्वान किया कि वे आवारा कुत्तों को पकड़ने व उनकी देखभाल के लिए अपना सहयोग दें। ताकी शहर के लोगों को इस भय से छुटकारा मिल सके। कहा कि आवारा कुत्तों के लिए उचित प्रबंधन की जरूरत है। साथ ही उनके लिए एक सेंटर बनाने की भी आवश्यकता है।


उन्होंने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी व मुख्य नगर अधिकारी को निर्देश दिए कि उक्त सेंटर को बनाने के लिए भूमि खोजी जए। जहां सेंटर बनाकर कुत्तों को रखा जाए व उनका ऑपरेशन किया जा सके। कहा कि वार्ड वार अभियान के तहत शहर के सभी आवारा कुत्तों का ऑपरेशन किया जाएगा। जिससे उनकी बढ़ती संख्या पर लगाम लग सके । इस बाबत मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को डॉक्टरों की उचित व्यवस्था करने को कहा गया है।

बैठक में मुख्य नगर अधिकारी सुशील कुमार, वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गुरपाल सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी देहरादून डॉ एस रावत, पशु चिकित्साधिकारी सदर डॉ. आरएस नेगी समेत कई स्वंयसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा