class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुमशुदा लोगों के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार

गुमशुदा का विज्ञापन देख परिजनों से गायब की रिहाई के बदले में फिरौती मांगने वाले एक गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। इस संबंध में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक पकड़े गए बदमाशों में से एक सेवानिवृत्त मेजर का बेटा है। बदमाशों पर करीब दो दजर्न आपराधिक मामलों में शामिल होने का आरोप है।


गिरफ्तार बदमाशों में साउथ एक्सटेंशन पार्ट-एक निवासी विक्रम उर्फ बबलू, वजीरपुर जेजे कालोनी निवासी मूलचंद व महेश शामिल हैं। इसमें से विक्रम सेवानिवृत्त मेजर का बेटा है। उनकी सन-82 में मौत चुकी है। कुछ साल बाद ही विक्रम की मां की भी मौत हो गई। उसका भाई दुबई में काम करता है। अकेले रहने वाले विक्रम ने अपराध की दुनिया को अपना लिया। उस पर 17 मामलों में शामिल होने का आरोप है। इसके अलावा मूलचंद पर 8 मामले हैं जबकि महेश के खिलाफ एक मामला दर्ज है।


उत्तर पश्चिमी जिला पुलिस के डीसीपी एन.एस.बुंदेला ने बताया कि नवी मुंबई निवासी अभिमन्यू भल्ला ने बताया कि उसकी मां सुमन भल्ला गायब हो गई हैं। उनकी गुमशुदगी का अखबार में विज्ञापन छपवाया गया है। गत 13 जून को किसी राजेश कपूर ने उसे फोन कर कहा कि वह अपनी मां की रिहाई चाहता है तो एक लाख रुपये लेकर दिल्ली पहुंच जाए। अभिमन्यू की सूचना पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच आरंभ की। इस बीच राजेश ने फोन कर अभिमन्यू को कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर रकम के साथ आने की बात कही। पुलिस भी सादी वर्दी में जाल बिछाए हुए थी। जैसे ही रुपये लेकर एक बदमाश मूलचंद मेट्रो स्टेशन इंद्रलोक जाने लगा, पुलिस ने उसे धर दबोचा। फिर उसकी निशानदेही पर अन्य दोनों बदमाशों विक्रम व महेश को कन्हैया नगर मेट्रो स्टेशन के पास से गिरफ्तार किया।


पूछताछ में अभियुक्तों में पता चला कि विक्रम पेरोल पर बाहर आया था। उसकी पेरोल की निर्धारित अवधि भी समाप्त हो चुकी है। उसने अपने साथियों के साथ मिलकर गुमशुदा विज्ञापन के साथ संपर्क के लिए छपे नंबर पर फोन कर वसूली का काम शुरू किया था लेकिन अभिमन्यू के मामले से ही शुरूआत करते ही वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुमशुदा लोगों के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार