class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार 10वीं परीक्षा को वैकल्पिक करने के पक्ष में

परीक्षा के बोक्ष के कारण छात्रों में आत्महत्या की बढ़ती घटना और अभिभावकों की परेशानी के मद्देनजर सरकार ने पूरे देश में एक बोर्ड के गठन तथा 10वीं बोर्ड परीक्षा को वैकल्पिक बनाने का समर्थन किया है।

मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा  अगर एक बच्चा स्कूल में 10वीं से 11वीं में जाना चाहता है। तो उसके लिए नंबरों पर आधारित परीक्षा लेने की क्या जरूरत है। इसके कारण छात्रों के रातों की नींद खत्म हो जाती है और अभिभावकों को भी परेशानी के दौर से गुजरना पड़ता है। 
   

उन्होंने कहा कि हम सम्पूर्ण परीक्षा प्रणाली की समीक्षा करेंगे और जिसका एक रास्ता 10वीं बोर्ड को वैकल्पिक बनाना हो सकता है। मंत्री ने कहा  देश में कोई ऐसी नीति होनी चाहिए। जो भय मुक्त शिक्षा की व्यवस्था को सुनिश्वित कर सके। इसके मद्देनजर हम ग्रेड पर आधारित प्रणाली को अमल में लायेंगे। यह नौवीं और 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए होगा ।


उन्होंने कहा कि परीक्षा में नंबर दिये जायेंगे लेकिन छात्रों को प्राप्तांक के रूप में ग्रेड बताया जायेगा। इस पर हम 100 दिनों के भीतर अमल करेंगे और निश्चित रूप से इसके लिए व्यापक विचार विमर्श किये जाने की जरूरत हैं। सिब्बल ने कहा कि बोर्ड को परीक्षा से इतर ज्ञान प्रदान करने पर जोर देना चाहिए। इसके लिए पूरे देश में एक बोर्ड बनाये जाने की जरुरत है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार 10वीं परीक्षा को वैकल्पिक करने के पक्ष में