class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चोरों से निपटने की नहीं है कोई योजना, फिंगरप्रिंट के बाद पुलिस झाड़ लेती है पल्ला

पुलिस की लापरवाही और नकारेपन  के कारण शहर के पॉश सेक्टरों में चोरी की वारदातें लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन इससे बेखबर है पुलिस। आपकी सेवा में सदैव तत्पर का दावा करने वाली नोएडा पुलिस के पास चोरों ने निपटने के लिए कोई योजना तक नहीं है।

घटना होने के बाद पुलिस फिंगरप्रिंट लेकर अपना पल्ला झाड़ लेती है। अब तक शहर में हुई चोरी की एक-दो घटना को छोड़ अन्य किसी भी घटना का खुलासा कर पाने में पुलिस पूरी तरह से नाकाम रही है। ऐसे में सेक्टरों में रहने वाले लोगों के घर कैसे सुरक्षित रह सकते हैं सोचने वाली बात है।

कई मामलों में पुलिस पीड़ित को ही नसीहत देकर चोरी की वारदात के लिए उल्टे उन्हीं को ही दोषी ठहरा देती है। आम आदमी शिकायत दर्ज कराए तो कैसे? आंकड़ों पर गौर करें तो अब तक पॉश सेक्टरों में दो दर्जन से अधिक चोरी की बड़ी वारदातें हो चुकी हैं लेकिन खुलासे के नाम पर पुलिस के पास कुछ भी नहीं है।

घरेलू नौकरानी और गार्डो की भूमिका- सेक्टरों में चोरी की अधिकांश घटनाएं घरों में काम करने वाली नौकरानी और सुरक्षा में लगे गार्डो की मिली भगत से होती है। उन्हें इस बात की जानकारी होती है कि सेक्टर का कौन व्यक्ति बाहर जा रहा है।

हकीकत तो यह है कि चोरी की घटनाओं में घरेलू नौकरानियों का ज्यादा हाथ होता है। रही बात पुलिस की तो वह भी नौकरानियों पर ज्यादा दबाव नहीं बना पाती हैं। पिछले दिनों एक-दो घटनाओं में पकड़े गये गार्डो से यह खुलासा हुआ है कि चोरी की वारदातों में उनकी भूमिका संदिग्ध रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पॉश सेक्टर चोरों के निशाने पर, पुलिस बेखबर