class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली विधानसभा में नोंक झोंक

पारे की गर्मी की तरह दिल्ली विधानसभा में बुधवार का दिन सदस्यों के बीच गरमा गरमी का रहा। सदन में कार्यवाही के दौरान सदस्यों के मध्य कई बार नोंक झोंक हुई। राज्य विधानसभा में नोक झोंक तब शुरु हुई जब भारतीय जनता पार्टी के धर्म देव सिंह सोलंकी के अपने विधानसभा क्षेत्र में स्कूलों में पानी की तंगी के सवाल पर शिक्षा मंत्री अरविन्दर सिंह लबली उत्तर दे रहे थे कि सोलंकी बीच में ही बोलने लगे। इस पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि लगता है सोलंकी घर से लडकर आए हैं। सिंह के यह कहते ही सोलंकी गुस्से में उठ खडे़ हुए और कहने लगे कि जनता ने हमें यहां अपनी शिकायतों को पहुंचाकर उसका समाधान ढूंढने के लिए चुनकर भेजा है और यह कहना कि वह लड़ाई करने आए हैं यह ठीक नहीं है। सोलंकी ने कहा कि जनता की दिक्कतों को दूर करने के लिए सदन में तो क्या वह सड़क पर भी लड़ाई लड़ने से पीछे नहीं हटेंगे।


एक अन्य वाकये में शिक्षा मंत्री के यह कहने पर कि वह स्कूलों के मामले में राजनीतिज्ञयों का हस्तक्षेप नहीं चाहते हैं और इसलिए विद्यालय समितियों में विधायकों को नहीं रखा गया है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के राम सिंह नेता जी ने कड़ा ऐतराज किया और कहा कि अगर शिक्षा मंत्री विधायक नहीं होते तो मंत्री कैसे बनते। कांग्रेस के तरविन्दर सिंह मारवाह और भाजपा के कुलवंत राणा समेत कुछ अन्य सदस्यों ने भी इस पर ऐतराज किया।
 इससे पहले सदन की कार्यवाही शुरु होने और पानी की किल्लत पर बहस कराने को लेकर नियमों का हवाला दिए जाने पर भाजपा के साहब सिंह चौहान और रमेश विधूडी आपस में ही भिड़ गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली विधानसभा में नोंक झोंक