class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जीएमटी

ग्रीनविच मीन टाइम या जीएमटी के आधार पर ही दुनिया में समय का आकलन किया जाता है। ग्रीनविच मीन टाइम या औसत समय का मतलब पृथ्वी का चौबीस घंटे में अपनी धुरी पर घूमने के लिए लिया जाने वाला समय। ग्रीनविच गांव, जिसके आधार पर ग्रीनविच समय की बुनियाद रखी गई है, पृथ्वी के समय मानचित्र के बीचोंबीच इंग्लैंड में स्थित है।

हालांकि, जीएमटी को 1 जनवरी 1972 को एटॉमिक टाइम से बदल दिया गया था, जो सकेंड के हजार-लाखवें हिस्से का भी हिसाब रखता है। इसका कारण था कि पृथ्वी की धुरी एक ही रफ्तार पर नहीं रहती और वह अपनी कक्षा में घूमने में कभी ज्यादा तो कभी कम समय लेती है। एटॉमिक घड़ियों पर आधारित समय को कोऑर्डिनेटेड यूनिवर्सल टाइम (यूटीसी) कहा जाता है। इसके बावजूद, जीएमटी के आधार पर ही दुनिया में समय का आकलन किया जाता है। जीएमटी को जुलू टाइम भी कहा जाता है।

स्वयं इंग्लैंड में जीएमटी का इस्तेमाल आधिकारिक तौर पर सर्दियों में ही होता है। गर्मियों में वहां ‘ब्रिटिश समर टाइम’ इस्तेमाल किया जता है। जीएमटी पश्चिमी यूरोप के समय के बराबर ही है। ऐतिहासिक तौर पर जीएमटी को दो भिन्न मानकों का आधार बनाया गया था। 1925 से पहले की खगोलीय विधि में दोपहर 12 बजे के समय को शून्यकाल कहा जाता था, जबकि उसी समय आम जनजीवन में रात्रि 12 को शून्यकाल माना जाता था। बाद में रात्रि समय को ही खगोलीय और आम जनजीवन के तौर पर मान्यता मिली थी। इनके बजाय, यूनिवर्सल टाइम (यूटी) या यूसीटी में इस तरह का कोई द्वंद्व नहीं है। दोनों समय मानकों में रात्रि बारह बजे को ही शून्यकाल कहा जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जीएमटी