class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हमले से व्यापार पर असर नहीं

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हमले से व्यापार पर असर नहीं

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय मूल के उद्योग विशेषज्ञों का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हुए नस्लभेदी हमले के बावजूद दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्तों पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ा है।

प्राइमस के सीईओ रवि भाटिया ने कहा कि भारतीय मीडिया द्वारा इस तरह के हमलों को संगठित और योजनागत तरीके से किया गया अपराध बताया जा रहा है, जो उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि इससे दोनों देशों के कारोबारी रिश्तों पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ा है। उन्होंने इन घटनाओं को कानून और व्यवस्था से जुड़ा मसला बताया। उन्होंने कहा कि अच्छी बात यह है कि भारत में अब यह माना जा रहा है कि इन घटनाओं को कुछ ज्यादा तूल दिया गया और ऑस्ट्रेलिया आज भी भारत का सबसे प्रमुख कारोबारी सहयोगी है। उन्होंने कहा कि बुरा दौर बीत चुका है और ऑस्ट्रेलिया में कारोबार और सभी सरकारें अपने स्तर पर द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्तों को बढ़ाने के लिए काम कर रही हैं।


भाटिया ने कहा कि इन घटनाओं का दोनों देशों के व्यावसायिक रिश्तों पर कोई दूरगामी असर नहीं पड़ा है और साथ ही इससे आस्ट्रेलिया के भारत में निवेश करने के रुख में किसी तरह का बदलाव नहीं आया है। इसी तरह की राय जहिर करते हुए ऑस्ट्रेलिया इंडिया बिजनेस काउंसिल (एआईबीसी, विक्टोरिया) के अध्यक्ष और सुंदरम फाइनेंस के एशिया प्रशांत के प्रमुख हरीश राव ने कहा कि इस तरह के हमलों से कारोबारी रिश्तों पर असर नहीं पड़ेगा। हालांकि, राव ने चेताया कि हमें सतर्क रुख अपनाना होगा। हमें कारोबारी रिश्तों पर निगाह रखनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हमले से व्यापार पर असर नहीं