class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यापारियों के लिए ई-पेमेन्ट सुविधा शुरू

एक करोड़ सालाना का कारोबार करने वाले व्यापारियों को ऑन लाइन रिटर्न दाखिल करने की सुविधा के बाद अब वाणिज्य कर विभाग ने टैक्स जमा करने के लिए ई-पेमेन्ट सुविधा शुरू की है। फिलहाल स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की किसी भी शाखा के जरिए टैक्स जमा किया जा सकता है।

पंजाब नेशनल बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, यूनियन बैंक आफ इंडिया की शाखाएँ भी जल्दी ही यह सुविधा उपलब्ध कराएंगी। यह जनकारी वाणिज्य कर आयुक्त अनिल सन्त ने मंगलवार को दी।

उन्होंने दावा किया कि ई-रिटर्न दाखिल करने में व्यापारियों की दिलचस्पी बढ़ रही है। जून माह में अब तक 24500 से अधिक व्यापारियों ने ऑन लाइन रिटर्न दाखिल किया है। वाणिज्य कर विभाग ने नवम्बर-2008 में एक करोड़ का सालाना कारोबार करने वाले व्यापारियों को ऑन लाइन रिटर्न दाखिल करने का निर्देश दिया था।

सर्वर की खराबी और कम्यूटरीकरण की खामियों के चलते व्यापारियों को ऑन लाइन रिटर्न दाखिल करने में खासी परेशानी हो रही है। बावजूद इसके एक करोड़ से अधिक का कारोबार करने वाले 36000 व्यापारियों में से 24500 ने जून माह में आन लाइन रिटर्न दाखिल किया।

जिस वाणिज्य कर विभाग ने ई-पेमेन्ट की सुविधा भी शुरू की है। फिलहाल स्टेट बैंक आफ इंडिया ने यह सुविधा दी है। एक करोड़ तक का कारोबार करने वाला कोई भी व्यापारी स्टेट बैंक की साइट पर जाकर टैक्स जमा कर सकेगा।

इस राशि को तत्काल उसके रिटर्न के ब्यौरा में दर्ज कर आन लाइन सूचना वाणिज्य कर मुख्यालय के भेज दी जाएगी। वाणिज्य कर आयुक्त ने कहा कि व्यापारियों को वाणिज्य कर जमा करने के लिए राष्ट्रीयकृत बैंकों से नेट बैंकिग की सुविधा उपलब्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है।

फिलहाल पंजाब नेशनल बैंक, बैंक आफ बड़ौदा और यूनियन बैंक आफ इंडिया से बातचीत अंतिम दौर में है। उनका कहना है कि इससे व्यापारियों को टैक्स जमा करने के लिए बैंक, ट्रेजरी कार्यालय की दौड़ भाग नहीं करनी पड़ेगी। आन लाइन टैक्स जमा हो जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्यापारियों के लिए ई-पेमेन्ट सुविधा शुरू