class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘केजी बसीन में गैस अनुमान वास्तविक नहीं’

‘केजी बसीन में गैस अनुमान वास्तविक नहीं’

देश में तेल एवं गैस खोज करने वाली सार्वजनिक कंपनी तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने कहा है कि केम्बे बेसिन और कृष्णा गोदावरी बेसिन में हुई तीन नई खोज उसकी पिछले वर्ष हुई 28 नई खोज का ही हिस्सा हैं।

ओएनजीसी की मंगलवार को जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि एक समाचार पत्र ने इन तीन खोज को तेल एवं गैस क्षेत्र में बड़ी सफलता बताते हुए इनमें 100 खरब घनफुट गैस भंडार होने का अनुमान लगाया है। ओएनजीसी प्रबंधन ने स्पष्ट किया है कि तेल एवं गैस भंडार के ये अनुमान वास्तविक नहीं हैं।

ओएनजीसी ने कहा है कि वर्ष 2008-09 में देश के विभिन्न क्षेत्रों में 28 स्थानों पर तेल एवं गैस की खोज की है। केम्बे बेसिन में चारडा और मातार क्षेत्र तथा केजी बेसिन में वाईएस 5 आईए क्षेत्र की तीनों नई खोज भी इन 28 में शामिल हैं। हाइड्रोकार्बन महानिदेशालय के पास इन्हें अधिसूचित किया जा चुका है, लेकिन क्षेत्र के किसी एक कुएं में प्राप्त तेल अथवा गैस प्रवाह के आधार पर पूरे क्षेत्र में उपलब्ध भंडार का आकलन नहीं किया जा सकता है।

कंपनी ने कहा है कि शुरुआती गैस प्रवाह को देखते हुए ऐसा कोई संकेत नहीं मिलता है, जिससे यह अनुमान लगाया जा सके कि क्षेत्र में 100 खरब घनफुट तक गैस भंडार मौजूद है। हालांकि कंपनी ने कहा है कि केम्बे और केजी बेसिन में मिली इन तीन सफलताओं से क्षेत्र में तेल एवं गैस खोज अभियान को नई मजबूती मिली है, लेकिन यहां कितना भंडार है इसके लिए और अध्ययन और खोज की जरूरत होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘केजी बसीन में गैस अनुमान वास्तविक नहीं’