class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भावस्था में खाना

एक गर्भवती महिला के शरीर को प्रोटीन, कैल्शियम, लौहतत्व, विटामिन-सी आदि की बेहद जरूरत होती है। वह क्या खाएं कि सब कुछ अनुकूल रहे। आइए, जनते गर्भावस्था में खानपान से जुड़ी सलाह:

प्रोटीन और कैल्शियम लें
शिशु के शारीरिक निर्माण के लिए ही नहीं परंतु आपकी अपनी शारीरिक क्षतिपूर्ति के लिए भी प्रोटीन चाहिए। मांस, मछली एवं अंडे प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। शाकाहारी महिलाओं को संतुलित एमिनो एसिड के लिए दूध/दही से बने पदार्थ, दालें एवं फलियां पर्याप्त मात्रा में लेने चाहिए। कैल्शियम शिशु के दांत एवं हड्डियों के स्वस्थ विकास के लिए महत्वपूर्ण है। साधारण मात्रा से दुगना कैल्शियम लें। डेरी उत्पाद जैसे दूध और पनीर में सरलता से पचने वाला कैल्शियम अधिक मात्रा में होता है। अंडा, राजमा और मछली इसके अन्य स्रोत हैं।

ज्यादा चाहिए लौह तत्व
लौह तत्व से शिशु अपने लिए जरूरी लौह तत्व हासिल करता है। आपके शरीर में बन रहे अतिरिक्त रक्त को ऑक्सीजन के संचार के लिए लौह तत्व की आवश्यकता है। अधिक लौह तत्व न लेने से एनीमिया (खून की कमी) हो सकती है। सेब, राजमा, काबुली चना, किशमिश, सोयाबीन, पुदीना और चना-दाल लौह तत्व के अच्छे स्रोत हैं। इसके अलावा प्लेसेन्टा को मजबूत बनाने में विटामिन-सी सहायक होता है, शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।

ताजे फल और सब्जियां जैसे संतरा, नींबू, बंदगोभी, आलू और टमाटर विटामिन-सी के अच्छे स्रोत हैं। फोलिक एसिड भी शिशु के स्नायु तंत्र के विकास के लिए आवश्यक है। गर्भावस्था के पहले कुछ सप्ताह में शरीर इस पौषक तत्व को संचित नहीं कर पाता। ताजा हरी सब्जियां, पालक और मूंगफली अच्छे स्रोत हैं। प्राय: गर्भावस्था में कब्ज हो जाता है। रेशेयुक्त तत्व ऐसा होने से बचाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गर्भावस्था में खाना