class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बॉस का प्रभाव

अगर आप अपने ऑफिस में बॉस की हैसियत रखते हैं, तो जाहिर है आप पर जिम्मेदारियों का बोझ काफी भारी होगा ही। और इन्हें पूरा करने के लिए अन्य लोगों से काम लेना होगा। ये काम आप तभी ठीक से कर पाएंगे, जब अपनी टीम पर आप अच्छा असर रखेंगे। आप स्वयं में नीचे दिए गए गुण विकसित करके आसानी से असरदार बॉस बन सकते हैं।

धैर्य: अच्छे और असरदार टीम मैनेजर में धैर्य का होना बहुत जरूरी है। इसके बगैर आप किसी भी टीम से काम नहीं ले सकते। बात-बात में उखड़कर साथियों पर बरस पड़ने वाले बॉस को कोई पसंद नहीं करता, और ऐसे बेचैन बॉस के कहे का असर भी खत्म हो जाता है। इसलिए चैक टैनर की ये उक्ति गांठ बांध लीजिए: मैन-मैनेजमेंट के तीन गुप्त मंत्र हैं, पहला- धीरज रखना, दूसरा धैर्यवान बनना और तीसरा और सबसे अहम मंत्र है धैर्य।

टीम मैनेजमेंट: किसी जिम्मेदारी के साथ आपको जो टीम दी जाती है, उसे मैनेज करना भी आपकी जिम्मेदारी होती है। इसलिए उसे संगठित रखना सीखिए। टीम को मोटिवेट करेंगे, तभी टारगेट पूरे होंगे।

आगे बढ़कर लीड करें: अपनी टीम के सदस्यों में आत्मविश्वास पैदा करने के लिए उनके रोल मॉडल बनकर दिखाएं। मुश्किल वक्त में उन्हें प्रोत्साहित करें और कामयाबी के लिए शाबासी दें।

- कार्य वितरण: अपने काम और जिम्मेदारी को बांटेंगे, तो इज्जत मिलेगी। टीम में पक्षपात करने से इज्जत नहीं बचेगी। इससे काम में मुश्किलात बढ़ जाएंगी।

- सुनने का माद्दा: अच्छा मैनेजर खुलकर चर्चा करता है। वह सबकी सुनता है, और आम राय से काम करता है।

- पहल को बढ़ावा: अपनी टीम को प्रेरित करना जरूरी है, इसलिए कोई मेंबर नया आइडिया लेकर आए, तो उसे सपोर्ट करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बॉस का प्रभाव