class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में नई सरकार बनाने के लिए संप्रग के विधायक एकजुट

झारखंड में राष्ट्रपति शासन समाप्त कर नई सरकार बनाने के लिए संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के सभी विधायकों ने एकजुट होकर केन्द्रीय स्तर पर प्रयास शुरु कर दिए हैं।

राज्यसभा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार धीरज साहु को 44 मत के साथ मिली जीत से यह सुनिश्चित हो गया है कि 82 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में संप्रग के विधायकों का बहुमत है जबकि इस समय झारखंड विधानसभा की आठ सीटें रिक्त है। वर्ष 2005 में झारखंड विधानसभा चुनाव के बाद से बनी अब तक की किसी भी सरकार को 44 विधायकों का समर्थन हासिल नहीं था लेकिन इस बार राज्यसभा उपचुनाव में कांग्रेस को 44 विधायकों का समर्थन मिला है और इससे पार्टी उत्साहित है तथा वह राज्य की कमान संभालने की इच्छुक है।

फारवर्ड ब्लाक की विधायक अपर्णा सेन ने हालांकि राज्यसभा उपचुनाव मे भाग नहीं लिया लेकिन वह भी राज्य में धर्म निरपेक्ष दलों के साथ ही मानी जाती है और पिछली शिबू सोरेन सरकार में वह मंत्री भी रह चुकी है।संप्रग के मुख्य घटक झारखंड मुक्ति मोर्चा . कांग्रेस और राजद के विधायक नई सरकार बनाने के पक्षधर है हालांकि राजद की प्रदेश कार्यकारिणी राज्य में नए जनादेश की पक्षधर है। बहरहाल राजद के मामले में अंतिम निर्णय राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव का ही होगा और यादव राजनीतिक नफा नुकसान का आंकलन कर ही कोई निर्णय लेंगे।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड में सरकार बनाने के लिए संप्रग विधायक एकजुट