class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीपीआई माओवादी आतंकवादी संगठन घोषित

सीपीआई माओवादी आतंकवादी संगठन घोषित

पश्चिम बंगाल के लालगढ़ सहित देश के कुछ भागों में माओवादी हिंसा की निरंतर बढ़ती और बेकाबू होती घटनाओं से कडा़ई से निबटने का अल्टीमेटम देते हुए केन्द्र सरकार ने सोमवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) को उग्रवादी संगठन करार देते हुए इसे प्रतिबंधित कर दिया।

गृह मंत्रालय के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार यह निर्णय एक उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया। भाकपा (माओवादी) को अवैध गतिविधियां (निरोधक) कानून (यूएपीए) के तहत प्रतिबंधित किया गया है। हालांकि इसकी अभी आधिकारिक तौर पर घोषणा नहीं की गई है लेकिन सूत्रों के अनुसार सरकार ने यह फैसला ले लिया है।

गौरतलब है कि कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) ने पश्चिम बंगाल सरकार को खुली चुनौती देते हुए इस लालगढ़ क्षेत्र को मुक्त क्षेत्र घोषित किया है जिससे वहां प्रशासन तंत्र पूरी तरह से पंगु हो गया है तथा बड़े पैमाने पर हिंसा हो रही है। इसी के मद्देनजर सरकार ने आज स्थिति को और बिगड़ने से रोकने के लिए यह कदम उठाया।

देश में कुल 34 संगठन प्रतिबंधित है, जिनमें पाकिस्तान स्थित लश्कर-ए-तैयबा लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) और सिमी शामिल है। उल्लेखनीय है कि देश में नक्सलियों के मुख्य संगठन भाकपा (माओवादी) ही आंध्रप्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे कई राज्यों में पहले से ही प्रतिबंधित है।

माओवादियों ने सोमवार से देश के पांच राज्यों में 48 घंटे के बंद का आह्वान किया है और नक्सल प्रभावित झरखंड में बारुदी सुरंग से एक वाहन को अपना निशाना भी बनाया। हालांकि पुलिस के अनुसार इस हमले में न तो कोई वाहन क्षतिग्रस्त हुआ न ही कोई हताहत हुआ।

ज्ञातव्य है कि पश्चिम बंगाल का लालगढ़ पिछले कुछ दिनों से माओवादियों की हिंसक गतिविधियों का केन्द्र बना हुआ है। माओवादियों ने इसे ‘मुक्त इलाका’ घोषित करके सुरक्षा बलों को उनके खिलाफ ठोस कदम उठाने को विवश किया है।

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने लालगढ़ में स्थिति को ‘संवेदनशील और तनावूपर्ण’ बताया है। सूत्रों ने कहा कि संभव है कि बंद के दौरान नक्सली हिंसक गतिविधियां करने पर उतर आएं। हो सकता है वे ट्रेने, बसें, बस अड्डों या भीड़भाड़ वाले अन्य क्षेत्रों में हिंसक हरकतें करें।

गृह मंत्री पी चिदम्बरम ने राजनीतिज्ञों गैर सरकारी संगठनों और लोगों को लालगढ़ नहीं जाने की सलाह दी है ताकि सुरक्षा बल अपनी जिम्मेदारी बिना बाधा के निभा सकें। गृह मंत्रालय ने नक्सल प्रभाग के खुफिया सूचना के आधार पर नक्सली हिंसाग्रस्त राज्यों को रविवार को अलर्ट घोषित किया था तथा आवश्यक एहतियाती कदम उठाने की सलाह दी है।

सूत्रों ने बताया कि सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। सीमावर्ती क्षेत्रों विशेषकर झारखंड से लगी पश्चिम बंगाल की सीमा पर विशेष सतर्कता बरती जा रही है। सरकार को अंदेशा है कि नक्सली अपनी गतिविधियां जारी रखने के लिए उधर भाग सकते हैं।

इस बीच बंद के चलते पुरुलिया जिले में बिगंडी स्टेशन के पास रेलवे पटरियों पर एक बारुदी सुरंग बिछाए जाने का शक होने पर रेलवे के दो कर्मचारियों को वहां संदिग्ध माओवादियों का गुस्सा झेलना पड़ा। हालांकि रेलवे अधिकारियों ने तुरंत बम निष्क्रिय करने वाले दस्ते को सूचित कर दिया। पटना से प्राप्त जानकारी के अनुसार वहां हालात सामान्य है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीपीआई माओवादी आतंकवादी संगठन घोषित