class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादियों का पांच राज्यों में बंद, जनजीवन अस्तव्यस्त

माओवादियों का पांच राज्यों में बंद, जनजीवन अस्तव्यस्त

माओवादियों ने सोमवार सुबह से पांच राज्यों पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ में 48 घंटे के बंद का आह्वान किया है। बंद के दौरान माओवादियों ने झारखंड में बारूदी सुरंग विस्फोट किया है जबकि उड़ीसा में पुलिस मुठभेड़ में दो माओवादी मारे गए हैं। पांचों राज्यों में बंद के कारण जनजीवन पर गहरा असर पड़ा है, हालांकि केन्द्र ने पहले ही एहतियाती कदम उठाने के निर्देश जारी कर दिए थे।

नक्सलियों द्वारा पांच राज्यों में आहूत 48 घंटे का बंद सोवार सुबह शुरू होने के बाद से पश्चिम बंगाल के माओवाद प्रभावित पश्चिमी मिदनापुर, पुएलिया और बांकुड़ा जिले में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है।

बंद का आह्वान पश्चिमी मिदनापुर के माओवादी प्रभावित लालगढ़ में माओवादियों के खिलाफ सुरक्षा बलों द्वारा चलाए जा रहे अभियान के विरोध में किया गया है।

लालगढ़ के अतिरिक्त बिनपुर, झाड़ग्राम और सटे हुए इलाकों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है जहां लगातार पांचवें दिन संयुक्त सुरक्षा बल अपना अभियान जारी रखे हुए हैं।

माओवादियों के प्रभाव वाले जिलों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। झाड़ग्राम और मिदनापुर शहर में दुकानें बंद हैं और सड़कों पर काफी कम वाहन दिखाई पड़ रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि सुरक्षा बलों की गश्त तेज कर दी गई है।

पुरुलिया जिले में तड़के दो बजे से पुरुलिया चांडिल खंड पर रेल सेवा निलंबित है। ऐसी खबरें हैं कि बिरंडी स्टेशन पर पटरियों पर बारूदी सुरंग लगायी गयी है।

पुलिस ने कहा कि दो रेलवे गैंगमैंनों ने पटरियों में बारूदी सुरंग बंधे देखे। इन दोनों पर संदिग्ध माओवादियों ने हमला किया और उनके मोबाइल फोन छीन लिए। रेलवे अधिकारियों ने तत्काल कोलकाता में बम निरोधक विभाग को विस्फोटक निष्क्रिय करने के लिए सूचित किया।

बंद का पड़ोसी बांकुड़ा जिले खासकर दक्षिणी बांकुड़ा में सामान्य जनजीवन पर प्रभाव पड़ा है। वहां माओवादियों का अच्छा खासा प्रभाव है।

उग्रवादियों द्वारा हमला किए जाने की आशंका के मद्देनजर सारंगा थाना और अन्य संवेदनशील इलाकों में बड़ी तादाद में पुलिस की तैनाती की गई है। बंद का रानीबंद, झिलमिली, सिमलीपाल और रायपुर में भी असर पड़ा है।

केंद्र ने नक्सल प्रभावित पांच राज्यों पश्चिम बंगाल, बिहार, क्षारखंड, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ को कल अलर्ट जारी कर बंद के पहले एहतियाती कदम उठाने को कहा था।

यह कदम इस बात की खुफिया जानकारी के मद्देनजर उठाया गया था जिसमें कहा गया था कि भाकपा :माओवादी: के उग्रवादी सुरक्षा बलों और आर्थिक आधारभूत ढांचों को निशाना बना सकते हैं।

उधर उड़ीसा के नक्सल प्रभावित मलकानगिरि जिले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में दो माओवादी मारे गए। मलकानगिरि के जिला पुलिस अधीक्षक सत्यव्रत भोई ने बताया कि मारे गए उग्रवादियों की उम्र 25 और 30 साल के बीच है। ये उग्रवादी यहां एमवी 12 इलाके में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए।

मुठभेड़ उस समय हुई जब पुलिस और विशेष अभियान समूह :एसओजी: के जवानों का दल वन्य क्षेत्र में तलाशी अभियान चला रहा था। उसी दौरान उग्रवादियों ने अपने ठिकाने से गोलीबारी शुरू की जिसके बाद दोनों पक्षों में हुई मुठभेड़ में दो माओवादी मारे गये।

भोई ने बताया कि घ्‍ाटनास्थल से दो पिस्तौल और कुछ कारतूस बरामद किए गए हैं। ये उग्रवादी नवनियुक्त विशेष पुलिस अधिकारियों :एसपीओ: के खिलाफ अभियान में शामिल किसी छोटे समूह से जुडे़ हुए थे।

पुलिस अभियान उस समय शुरू किया गया जब तलाशी के दौरान यहां रविवार रात तीन माओवादियों ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी थी। ये माओवादी इसके बाद जंगल में भाग गए थे। इस घ्‍ाटना में कोई हताहत नहीं हुआ था।

इस घ्‍ाटना के बाद पूरे जिले में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया और गश्त तेज कर दी गई। ऐसा खासतौर पर पश्चिम बंगाल और उड़ीसा समेत पांच राज्यों में सोमवार से शुरू हुए माओवादियों के 48 घंटे के बंद के मद्देनजर किया गया है।

बंद के दौरान उड़ीसा में किसी भी अप्रिय घ्‍ाटना का समाचार नहीं है। हालांकि, मलकानगिरि, रायगढ़ और कोरापुट जिले के कुछ हिस्सों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। बंद के चलते दुकानें बंद हैं और सड़कों पर वाहन नहीं दिखाई पड़ रहे हैं।

उधर झारखंड में भाकपा :माओवादी: के उग्रवादियों ने झारखंड के घ्‍ाटशिला सबडिवीजन के बारामारा में सोमवार को बारूदी सुरंग विस्फोट किया हालांकि किसी के हताहत होने अथवा किसी प्रकार की क्षति की सूचना नहीं है।

पूर्वी सिंहभूम के पुलिस अधीक्षक नवीन कुमार सिंह ने बताया कि माओवादियों द्वारा आज से आहूत 48 घंटे के पांच राज्यों के बंद के पहले दिन उग्रवादियों ने एक बारूदी सुरंग निरोधी वाहन को निशाना बनाया था लेकिन वे इसे कोई बड़ी क्षति नहीं पहुंचा सके।

सिंह ने कहा कि पश्चिमी मिदनापुर से सटे इस इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है। गौरतलब है कि पश्चिम मिदनापुर में ही लालगढ़ इलाका है जहां उग्रवादियों के सफाए के लिए अभियान चलाया जा रहा है।

पूर्वी सिंहभूम जिला पुलिस ने कठोर सुरक्षा उपाय किए हैं। पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। माओवादियों ने लालगढ़ में सुरक्षा बलों के अभियान के खिलाफ बंद का आहवान किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माओवादियों का पांच राज्यों में बंद, जनजीवन अस्तव्यस्त