class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईरान ने विदेशी मीडिया पर कसा शिकंजा

ईरान ने विदेशी मीडिया पर कसा शिकंजा

ईरान में हुए हालिया चुनावों के बाद विरोध प्रदर्शनों तथा सरकार की भूमिका को लेकर विदेशी मीडिया की नकारात्मक खबरों के बाद वहां की सरकार ने अब विदेशी मीडिया खास कर टीवी चैनलों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिए हैं।

ईरानी सरकार के आदेश के बाद सउदी अरब से चलने वाले टीवी चैनल अल अरबिया ने अगला आदेश आने तक अपना तेहरान ब्यूरो कार्यालय बंद कर दिया। बीबीसी ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है कि ईरान ने उसके संवाददाता को देश छोड़ने के लिए कहा है। बीबीसी द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि हमें खेद के साथ यह कहना पड़ रहा है कि ईरानी अधिकारियों के आदेश के बाद बीबीसी के स्थाई संवाददाता जान लेन को ईरान छोड़ने के लिए कहा गया है।

अल अरबिया ने अपना तेहरान ब्यूरो कार्यालय बंद करने का फैसला ईरान के सूचना मंत्रालय के आदेश के बाद किया। चुनाव के बाद से अब तक ईरान में कई सुधारवादी विचारधारा वाले अखबारों को बंद कर दिया गया है। कई सुधारवादी लेखक और संपादकों को जेल भेज दिया गया। यहां न्यायपालिका ने भी मीडिया पर नकेल कसने की वकालत की है। सरकार ने छपने से ज्यादा प्रसारण होने वाली चीजों पर नकेल कस रखा है और विदेश से प्रसारण होने वाली खबरों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ईरान ने विदेशी मीडिया पर कसा शिकंजा