class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वधू पक्ष ने लगाया दहेज मांगने का आरोप, वर ने कहा, लड़की को है असाध्य रोग

हाथों में मेंहदी व पैरों में महावर लगाए दुल्हन मंडप में बैठी रही। मगर, न बारात आयी और न दूल्हा। देर शाम तक इंतजार के बाद शीला का धर्य जबाब दे गया और वह अपनी मां से लिपटकर फूटफूट कर रोयी। रिश्तेदार व समाज के सामने पिता की इज्जत दांव पर लग गई।

बेटी को रोता देख पिता लल्लन राजभर अभी थाने जाने की सोचता, उसके पहले वर पक्ष के लोग पहुंच गए रोहनियां थाने। लिखित दिया कि लड़की को असाध्य रोग है इसलिए शादी नहीं कर सकते। फिलहाल पुलिस ने दोनों पक्षों को सोमवार को थाने में पंचायत के लिए बुलाया है।

घटना रोहनियां के काशीपुर स्थित कुरूहुआ गांव की है। यहां की लड़की की शादी रोहनियां थाना क्षेत्र के ही बेल्हना गांव निवासी कैलाश राजभर से तय हुई थी। शूलटंकेश्वर मंदिर में रविवार को बरातियों के स्वागत की तैयारियां चल रही थी। आंगन में शादी के गीत गूंज रहे थे।

सायं सात बजे तक बारात नहीं आने पर दुल्हन के पिता ने वर पक्ष से फोन पर बातचीत की। पता चला कि शादी नहीं होगी। पूरे परिवार के पैरों की जमीन खिसक गई। समाज व इज्जत की दुहाई दी लेकिन वर पक्ष पर कोई असर नहीं पड़ा। वधू पक्ष का आरोप है कि दो दिनों पहले दहेज में मोटरसाइकिल की मांग की गई थी। मांग पूरी नहीं होने पर लड़के वाले बारात लेकर नहीं आए।

दुल्हन के पिता वर पक्ष के खिलाफ कार्रवाई की सोच ही रहे थे कि वर पक्ष रोहनियां थाने पहुंच गया। वर पक्ष ने थाने में तहरीर दी कि लड़की को असाध्य रोग है इसलिए शादी नहीं की जा सकती।

तहरीर पर एसएसआई चंद्रदेव यादव वधू पक्ष के पास गए और पूरी जनकारी ली। एसओ संगम मिश्रा का कहना है कि सोमवार की सुबह दोनों पक्षों को थाने में बुलाया गया है। यदि दहेज का मामला हुआ तो कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नहीं आई बारात, मंडप में बैठी रही दुल्हन