class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान बना ट्वेंटी-20 का नया बादशाह

पाकिस्तान बना ट्वेंटी-20 का नया बादशाह

जोहानिसबर्ग में दो साल पहले भारत के हाथों आखिरी ओवर में दिल तोड़ने वाली हार झेलने वाले पाकिस्तान ने क्रिकेट के मक्का लाडर्स में रविवार को यहां अब्दुल रज्जक के शुरूआती कहर और शाहिद अफरीदी की नाबाद अर्धशतकीय पारी से श्रीलंका को आठ विकेट से हराकर टवेंटी-20 विश्व चैंपियन बनने की अपनी मुराद पूरी की।

रज्जक (20 रन पर तीन विकेट)  के शुरूआती कहर से श्रीलंका का स्कोर एक समय चार विकेट पर 32 रन था जिसके बाद कप्तान कुमार संगकारा ने 52 गेंद पर नाबाद 64 रन की पारी खेली और सातवें विकेट के लिये एंजेलो मैथ्यूज (24 गेंद पर 35 रन)  के साथ 68 रन की अटूट साझेदारी की । इससे श्रीलंका छह विकेट पर 138 रन के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचने में सफल रहा।

कामरान अकमल (37): से मिली शानदार शुएआत और फिर अफरीदी (40 गेंद पर 54 रन) के तीखे तेवरों के कारण पाकिस्तान ने हालांकि आसानी से 18.4 ओवर में दो विकेट पर 139 रन बनाकर क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप का विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

मैच में पहले ओवर से पाकिस्तान का दबदबा रहा और आखिर तक वह अपने दक्षिण एशियाई प्रतिद्वंद्वी पर हावी रखा। पाकिस्तान के लिये यह जीत इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस साल मार्च में श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर आतंकी हमले के बाद वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से वंचित है।

पाकिस्तान ने इस बार टूर्नामेंट में अंडरडाग के रूप में शुएआत की तथा पहले दौर और फिर सुपर आठ में पहला मैच गंवाने के बाद जोरदार वापसी की लेकिन सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका और अब फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ उसने एकतरह से एकतरफा जीत हासिल की।

लाडर्स की बल्लेबाजी के लिये माकूल पिच पर अपेक्षाकृत कम लक्ष्य का पीछा करते हुए पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने धैर्य से काम लिया और किसी तरह की जल्दबाजी नहीं दिखायी। अफरीदी जैसे बल्लेबाज ने 40 गेंद खेली तथा अपनी पारी में दो चौके और इतने ही छक्के लगाये। उन्हें शोएब मलिक का अच्छा साथ मिला जिनके साथ उन्होंने 76 रन की अटूट साक्षेदारी की। मलिक 22 गेंद पर 24 रन बनाकर नाबाद रहे।

श्रीलंका की तरफ से पहले तीन ओवर अच्छे गये लेकिन चौथे ओवर में इसुए उदाना ने जब 14 रन लुटा दिये तो संगकारा ने तुरंत अपने विश्वसनीय सारथी मुथैया मुरलीधरन को गेंद सौंप दी। उन्होंने दूसरे स्पिनर अजंता मेंडिस को भी पावरप्ले ही गेंदबाजी के लिये बुलाया जिनका अकमल ने मिडविकेट पर छक्का जड़कर स्वागत किया।

पाकिस्तानी विकेटकीपर बल्लेबाज ने मैथ्यूज की गेंद भी छह रन के लिये भेजी लेकिन सनथ जयसूर्या की गेंद भी आगे बढ़कर सीमा रेखा पार पहुंचाने के चक्कर में वह चूक गये और संगकारा ने उन्हें स्टंप आउट करने में कोई गलती नहीं की। अकमल की 28 गेंद की पारी में दो चौके और दो छक्के शामिल हैं।

दूसरे सलामी बल्लेबाज शाहजेब हसन ने मेंडिस पर लगातार दो चौके जमाने के बाद मुरलीधरन को भी सबक सिखाने की आतुरता दिखायी और अगले ओवर में इस आफ स्पिनर की पहली गेंद पर जयसूर्या को कैच देकर पवेलियन लौटे ।

अफरीदी और मलिक ने इसके बाद रणनीति के साथ बल्लेबाजी की। तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी करने वाले अफरीदी ने किसी तरह की जल्दबाजी नहीं दिखायी और केवल ढीली गेंदों को सबक सिखाया जबकि मलिक ने सहयोगी की भूमिका अच्छी तरह से निभायी।

अफरीदी ने मुरलीधरन पर मिडविकेट पर छक्का और फिर चौका लगाकर अपने तेवर दिखाये और बीच में कुछ देर तक एक दो रन लेकर स्कोर आगे बढ़ाने के बाद उदाना की गेंद भी छह और चार रन के लिये भेजकर अपना अर्धशतक पूरा किया। मालिंगा की गेंद पर लेग बाई बनते ही पाकिस्तानी खिलाड़ी खुशी में उछलने लगे और एक दूसरे को गले लगाने लगे।

इससे पहले युवा तेज गेंदबाज आमेर और आधिकारिक क्रिकेट में अपनी दूसरी पारी शुरू कर रहे रज्जक ने श्रीलंका का टास जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला गलत साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बेहतरीन फार्म में चल रहे तिलकरत्ने दिलशान पहले ओवर में बिना खाता खोले पवेलियन लौट गये और खतरनाक जयसूर्या (17) लय पकड़ते ही ढेर हो गये। यही नहीं पिंच हिटर के तौर पर आये जेहान मुबारक (शून्य)  और भरोसेमंद महेला जयवर्धने (01) का बल्ला भी नहीं चला।

वेस्टइंडीज के खिलाफ सेमीफाइनल में नाबाद 96 रन बनाकर श्रीलंका को अकेले दम पर मजबूत स्कोर तक पहुंचाने वाले दिलशान ने पहले ओवर में ही आमेर की गेंद स्कूप करने की कोशिश की लेकिन उनकी टाइमिंग सही नहीं थी और शार्ट फाइन लेग पर हसन के बढ़िया प्रयास से वह कैच में बदल गया।

इसके बाद रज्जक की बारी थी जिन्होंने अपने पहले तीन ओवर में तीन विकेट निकालकर श्रीलंका के होश उड़ा दिये। मुबारक को उन्होंने हसन के हाथों कैच कराकर अपना पहला शिकार बनाया। उनके अगले ओवर में जयसूर्या ने पहली पर छक्का और चौका लगाया लेकिन आखिर में जीत रज्जक की हुई। जयसूर्या फिर से पुल करना चाहते थे लेकिन गेंद बल्ले से लगकर विकेट उखाड़ गयी। जयवर्धने से ऐसे में धैर्यपूर्ण पारी की अपेक्षा थी लेकिन उन्होंने रज्जक के तीसरे ओवर में बैक कट करने की कोशिश में स्लिप में मिसबाह उल हक को कैच दे दिया।

संगकारा ने एक छोर संभाले रखा और उन्हें कुछ देर के लिये चामरा सिल्वा (14) से सहयोग मिला जिन्हें गुल ने अपने शुएआती ओवर में पवेलियन की राह दिखाकर लंबी साक्षेदारी नहीं बनने दी। अफरीदी ने इसके अगले ओवर में गुगली पर इसुए उदाना की गिल्लियां बिखेरी। संगकारा ने गुल की गेंद पर मिडविकेट पर चौका जड़कर अपना अर्धशतक पूरा किया जिसके लिये उन्होंने 43 गेंद खेली। मैथ्यूज ने आमेर के अंतिम ओवर में चौका और फिर छक्का जमाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाकिस्तान बना ट्वेंटी-20 का नया बादशाह