class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूचना के अधिकार के तहत सवाल, जवाब नाकाफी

एक्सप्रेस वे पर पिछले महीनों के दौरान हुई दुर्घटनाओं के बावजूद ना तो मेंटेंनेंस से जुड़ी कंपनी और ना ही भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण(एनएचएआई) ने कोई सबक ली है।

हरेक दुर्घटना के बाद, एक नई पाबंदी लगा दी जाती है, लेकिन इस परियोजना की कमियों को दूर करने की तरफ शायद किसी का ध्यान अब तक नहीं गया है।

सड़क हादसे में लगातार चल रहे मौत के मंजर को थमता ना, देख आखिरकार एक पीड़ित बाप ने पहल की। सूचना के अधिकार के तहत एनएचएआई से कुछ सवालों के जवाब मांगे गए, लेकिन उन जवाबों से भी कई बातें ऐसी है, जिसे देखकर ऐसा नहीं लगता है कि दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस वे के हालात जल्द सुधरेंगे।

आरटीआई के तहत जानकारी मांगने वाले केएस आनंद ने सवाल उठाया है कि आखिरकार कब तक सरकारी विभाग और संबंधित कंपनी आम जिंदगियों के साथ हो रहे खिलवाड़ को देखती रहेगी?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक्सप्रेस वे पर उठाए गए सवाल