class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईरान में असंतोष

ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्ला अली खमैनी ने साफ तौर पर राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजद का समर्थन किया है। इसके बाद भी ईरान में विरोध प्रदर्शन जारी रहने का अर्थ यह है कि इस्लामी क्रांति के लगभग तीस साल बाद ईरान फिर से बड़ी उथल-पुथल की चपेट में है।

खमैनी की हैसियत ईरान में सबसे बड़ी है और उनका फैसला हर मामले में आखरी माना जता है, ऐसे में अगर ईरान की जनता का बड़ा हिस्सा उनके फैसले को मानने से इंकार करता है, इससे यह साफ जहिर होता है कि यह ईरान के इतिहास में एक निर्णायक वक्त है।

राष्ट्रपति अहमदीनेजद पांच साल पहले जब चुने गए थे, तब भी चुनाव में धांधली के आरोप लगे थे। लेकिन तब खमैनी के कहने से मामला शांत हो गया था। इस बार चुनाव में धांधली के आरोपों के साथ जनता सड़क पर आ गई और उन्होंने खमैनी का आदेश मानने से भी इंकार कर दिया, यह 2004 और 2009 का फर्क है। दरअसल, झगड़ा सिर्फ दो राजनैतिक गुटों का नहीं है, अहमदीनेजद कट्टर और संकीर्ण राजनीति के पक्षधर माने जाते हैं और उनके प्रतिस्पद्र्धी मीर हुसैन मुसावी उदार शक्तियों के साझ प्रतिनिधि के रूप में चुनाव लड़े थे, इसलिए यह संघर्ष कट्टरपंथिता और उदारवादिता के बीच का संघर्ष बन गया है।

2004 में ज्यादा विरोध इसलिए भी नहीं हुआ क्योंकि उदारपंथी शक्तियां एकजुट नहीं थीं, अहमदीनेजद के बारे में भी ज्यादा जनकारी नहीं थी और एक बड़ा फर्क जो अब महत्वपूर्ण हो गया है, वह है सूचना तकनीक का विकास। अहमदीनेजद की सरकार ने अभिव्यक्ित के साधनों पर सख्त पाबंदी लगाई, लेकिन इंटरनेट और मोबाइल पर संपर्क के नए स्वरूपों जसे ब्लॉग और ट्वीटर ने उदारता के समर्थकों को अपनी बात फैलाने और संगठित होने में मदद की। इसकी वजह से समझ में आया कि ईरान में उदारता के लिए कितना व्यापक समर्थन है।

कट्टरपंथी उदारता और आधुनिकता को पश्चिम से आया जहर मानते हैं और उन्हें इस बात पर भी आपत्ति है कि कैसे महिलाएं अहमदीनेजद के खिलाफ सड़कों पर उतर आई हैं। संभव है फिलहाल दमन और हिंसा के सहारे अहमदीनेजद उग्र विरोधों पर काबू पा लें, लेकिन स्थिति को ज्यादा देर तक संभाले रखना उनके लिए मुश्किल होगा। साथ ही सारी दुनिया को कट्टरवादी ईरानी सरकार के साथ निभाना पड़ेगा। अभी तो ईरान दोराहे पर खड़ा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ईरान में असंतोष