class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आई लव यू पापाः दीपिका पादुकोणे

आई लव यू पापाः दीपिका पादुकोणे

मेरे पापा एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं, यह सब जानते हैं। लेकिन मैंने कभी उनके पदचिन्हों पर चलने के बारे में नहीं सोचा। इसका उन्होंने कभी मलाल भी नहीं किया। न कभी मुझ पर अपना फैसला थोपा। मैंने मॉडलिंग को करियर बनाने के बारे में सोचा तो उन्होंने मेरा साथ दिया। फिर फिल्मों में दाखिल हुई तो भी उन्होंने मेरे फैसले का पूरा सम्मान किया। मुझे लगता है कि उनके जैसे पिता की वजह से ही मैं इस मुकाम तक पहुंच पाई हूं। वह मुङो और मेरी बहन, दोनों को इस बात की छूट देते हैं कि हमें अपनी जिंदगी के फैसले खुद करने हैं। अगर मेरी बहन ने गोल्फ को करियर बनाने के बारे में सोचा तो भी इसीलिए क्योंकि यह उसकी खुद की इच्छा थी। हां, पापा इतना जरूर कहते हैं कि अपने फैसले पर कभी अफसोस मत करना।

मैंने अपने पापा से बहुत कुछ सीखा है। सबसे बड़ी बात जो सीखी है, वह है हर हालात से जूझने की हिम्मत। मैं कभी तनाव में नहीं आती और बुरी से बुरी स्थिति से निपटना जानती हूं। पापा चूंकि खिलाड़ी रहे हैं, इसलिए यह गुण उनमें बखूबी है कि किस तरह प्रतिकूल स्थिति को भी अपने अनुकूल बनाया जाए। हालांकि मैंने अभी अपने करियर की शुरुआत की है, लेकिन यह अच्छी तरह से समझती हूं कि सफलता या असफलता को कैसे लिया जाए। मैं कामयाबी से घमंड में नहीं आती, और नाकामयाबी से निराश नहीं होती। यह गुर भी मैंने अपने पापा से सीखा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आई लव यू पापाः दीपिका पादुकोणे