class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तोड़ें चिंता की बेड़ियां

हम में से कई लोग अक्सर अपने करियर को लेकर चिंता करते रहते हैं। चिंता इस बात की कि ये नौकरी बची रहेगी, या नहीं? नई नौकरी कब और कहां मिलेगी ? वहां काम का बोझ तो बहुत ज्यादा नहीं होगा? आदि, आदि। दरअसल चिंता वह खतरनाक प्रवृत्ति है, जो हमें भयभीत करके करियर में आगे बढ़ने के मार्ग से भटका देती है और हमारे करियर को जाम कर देती है। तो इससे पहले कि करियर को भीषण नुकसान हो जाए, चिंता की ऐसी बेड़ियां तोड़ डालने के लिए फौरन जरूरी कदम उठाइए।

- चिंता का ग्रास न बनें: ये बात कहना आसान है, करना मुश्किल। अच्छे लोगों के साथ अक्सर ऐसा होता है कि वे चिंता के शिकार होकर नुकसान उठा जाते हैं, उनका डिमोशन हो जाता है, या नौकरी से निकाल दिया जाता है। ऐसी स्थिति न आने दें। इसका एक ही तरीका है कि चिंता को खुद पर हावी न होने दें। चिंता करने से करियर नहीं संवरने वाला। 

- अनिश्चितता को स्वीकार करें: करियर में असमंजस और अनिश्चितता है, तो इसे गले लगाएं। इससे आपको नई ऊर्जा और प्रेरणा मिलेगी। आगे की चिंता छोड़कर आज पर फोकस करने में ही समझदारी है। मौजूदा हाल का सामना करिए, चिंता काफूर हो जाएगी और मन का डर जाता रहेगा।

- नया भविष्य रचें: करियर की चिंता नहीं होगी, तो आप कुछ नया करने की सोचेंगे। नए-नए प्लान बनाएंगे। उन्हें नोट करके रखेंगे। इससे नया विजन बनेगा, और आप उसे हासिल करने की राह पकड़ कर आगे बढ़ जाएंगे।

- एक्शन और गोल: चिंता मुक्त होकर आप जो भी करियर प्लानिंग करेंगे, उस पर पूरी ताकत झोंक कर ऐसे नतीजे हासिल कर लेंगे, जो आपको भी चौंका देंगे। इस तकनीक से बड़े से बड़ा गोल हासिल करना आसान हो जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तोड़ें चिंता की बेड़ियां