class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोहिया अस्पताल में संसाधन जुटाने की मुहिम

गोमती नगर स्थित डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में संसाधन जुटाने की कवायद शुरू हो गई। पीजीआई में हड़ताल के बाद राजधानी में सुपर स्पेशलिस्ट स्वास्थ्य सेवाओं का जो आईना दिखा उसके बाद सरकार की नींद खुली है।

प्रशासन अब अस्पताल में 50 डॉक्टरों व 250 कर्मचारियों की नियुक्ति करने जा रहा है। साथ ही कई मशीनें भी स्थापित किए जाने का काम शुरू हो गया है। भारी धनराशि खर्च कर खोले गए डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में अभी तक मरीजों को किसी तरह की राहत नहीं मिल सकी है।

इस अस्पताल में अभी उधार के डॉक्टरों से काम चल रहा है। पीजीआई से डॉक्टर यहाँ ओपीडी में आकर मरीज देखते हैं। अस्पताल का ढांचा अभी तक तैयार नहीं है और यही वजह रही कि पीजीआई में हड़ताल के बाद भी यहाँ एक भी मरीज को भर्ती नहीं किया जा सका। इसकी वजह डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में स्थाई तौर पर डॉक्टरों व कर्मचारियों की नियुक्ति न होना है।

अस्पताल को सुपर स्पेशलिस्ट स्वास्थ्य सेवाओं के नजरिए से खोला गया था जिसमें अभी तक सफलता नहीं मिली है। अस्पताल के निदेशक डॉ. जीके मलिक का कहना है कि अब 50 डॉक्टरों, 171 कर्मचारियों व 32 नर्सो की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो रही है।

अगले हफ्ते से यह प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। तकनीकी संवर्ग के कर्मचारी अलग से लिए जएँगें। अस्पताल में बहुत सी मशीनें भी स्थापित होने लगी हैं। करीब साढ़े चार करोड़ रुपए की सीटी स्लाइस 64 लगाए जाने का काम भी शुरू हो गया है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोहिया अस्पताल में संसाधन जुटाने की मुहिम