class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस की नजर अब सुन्दर पटेल पर

उत्तर प्रदेश पुलिस के साथ पूरे 56 घंटे तक अकेले लोहा लेने के बाद चित्रकूट के राजापुर इलाके में मारे गए पचास हजार के ईनामी डकैत घनश्याम केवट के बाद पुलिस की नजर अब राज्य के साथ मध्यप्रदेश में भी आतंक का पर्याय बने सुन्दर पटेल उर्फ रागिया पर है।


घनश्याम केवट के मारे जाने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने साठ ऐसे अपराधियों की सूची बनाई है। जिनके कारण लोग आतंक के साए में जी रहे हैं। इनमें सुन्दर पटेल का नाम सबसे उपर है। पांच लाख के ईनामी डकैत अम्बिका पटेल उर्फ ठोकिया के मारे जाने के बाद उसके शिष्य सुन्दर पटेल ने मध्यप्रदेश के सतना में 12 लोगों को जिंदा जला दिया था। उसने ददुआ के मारे जाने के बाद राज्य पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के छह जवानों की भी हत्या कर दी थी।


घनश्याम के मारे जाने के बाद पुलिस को आशंका है कि सुन्दर पटेल कोई बड़ी हरकत कर सकता है। पुलिस की समस्या सुन्दर का नहीं पहचाना जाना है।एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि सुन्दर पटेल की कोई भी फोटो उपलब्ध नहीं है।


 दूसरी ओर राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) बृजलाल ने कहा कि बडे़ और छोटे डकैतों के सफाए और उनकी गिरफ्तारी के लिए अभियान फिर से शुरू किया जाएगा। उन्होंनें कहा कि घनश्याम के खिलाफ भी मुठभेड़ इतनी लंबी इसलिए चली कि पुलिस गांव वालों के जान-माल का नुकसान नहीं होने देना चाहती थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुलिस की नजर अब सुन्दर पटेल पर