class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेरी के कार्रवाई के लिए रिपोर्ट शासन को भेजी

नकली दूध माफियाओं के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान शुक्रवार को भी जारी रहा। नकली दूध माफियाओं को बढ़ावा देने में एसडीएम ने पराग डेयरी के अफसरों को दोषी पाया है। डीएम ने पराग डेयरी के अफसर व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन को अपनी रिपोर्ट भेज दी है।

मिलावट मिलने के बाद समिति को भंग भी नही किया गया । डीएम दीपक अग्रवाल ने बताया कि सूचना मिली कि रबूपुरा क्षेत्र में भी गुड्डू ने चीलिंग प्लांट लगा रखा है, वह चीलिंग प्लांट में नकली दूध बनाता है। दिल्ली सप्लाइ करता है। सूचना पर एसडीएम जेवर शलेंद्र सिंह को छापे मारने के निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम के छापा मारने की भनक लगने पर नकली दूध माफिया गुड्डू प्लांट बंद करके फरार हो गया। डीएम ने बताया कि पराग डेयरी के दूध में पूरी तरह मिलावट पाई गई है, बांकी समितियों से लिए गए दूध के नमूनों को जांच के लिए लखनऊ प्रयोगशाला के लिए भेज दिया गया है। उधर पराग डेयरी नोएडा फेस के प्रबंधकों का कहना है कि यदि पराग से सम्बंधित समितियों से नकली दूध या मिलावट की बात सामने आती है तो उन समितियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डेरी के कार्रवाई के लिए रिपोर्ट शासन को भेजी