class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शर्म करो दिवस का राहुल से कोई संबंध नहीं: मायावती

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने शुक्रवार को साफ किया है कि बसपा द्वारा मनाए जा रहे शर्म करो-शर्म करो दिवस का कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी के जन्मदिवस पर राज्य में कांग्रेस द्वारा मनाए जा रहे समरसता दिवस से कोई लेना देना नहीं है।

लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में मायावती ने कहा कि देश में भाईचारा तोड़ने और जातिवाद को बढ़ावा देने वालों के खिलाफ बसपा ने देशव्यापी शर्म करो जागरूकता अभियान शुरू करने का फैसला किया है। इस अभियान की शुरूआत शुक्रवार को उत्तरप्रदेश से की गई है।

बसपा प्रदेश के सभी 71 जिला मुख्यालयों पर शुक्रवार को शर्म करो दिवस मना रही है। हर जिले में बसपा कार्यकर्ताओं की तरफ से रैलियां आयोजित की गई हैं।

मायावती ने कहा कि 19 जून का दिन बसपा के लिए बहुत खास है। उन्होंने कहा, 3 जून 1995 को पहली बार मैंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और आज ही के दिन यानी 19 जून 1995 को बसपा सरकार बनने के बाद  पहला विधानसभा सत्र शुरू हुआ था।

मायावती ने जोर देते हुए कहा कि 19 जून को बसपा अपने आंदोलन के लिए बड़ा दिन मानती है। उन्होंने कहा कि शर्म करो अभियान तब तक चलता रहेगा जब तक बसपा जातिवाद की राजनीति करने वालों को सही लाइन पर नहीं ले आएगी। उन्होंने कहा कि आजादी के 61 साल बाद भी देश में जातिवाद खत्म नहीं हुआ है।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस अभियान का राहुल गांधी के जन्मदिन पर प्रदेश में मनाए जा रहे समरसता दिवस से कोई संबंध नहीं है। मायावती ने राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि राहुल गांधी अपना जन्मदिन कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ विदेश में मना रहे हैं।

मालूम को हो कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल गांधी के जन्मदिन को समरसता दिवस के रूप में मना रहे हैं। प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ता दलितों के साथ भोजन के अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शर्म करो दिवस का राहुल से कोई संबंध नहीं: मायावती