class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीलंका में बिगड़ सकती है स्थिति: मून

श्रीलंका में बिगड़ सकती है स्थिति: मून

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा है कि श्रीलंका सरकार के विद्रोही संगठन लिट्टे के खिलाफ सैन्य अभियान समाप्त होने की श्रीलंका सरकार की घोषणा के बावजूद यदि प्रमुख समस्याओं को हल नहीं किया गया तो देश में स्थिति फिर से हिंसक हो सकती है।

मून ने न्यूयार्क में विदेश नीति संघ के तत्वावधान में आयोजित एक पुरस्कार वितरण समारोह में कहा कि कल उन्होंने श्रींलका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे से स्पष्ट कर दिया है कि वहां सैन्य अभियान भले ही समाप्त हो गया हो लेकिन अभी भी काफी कुछ किया जाना शेष है।

उन्होंने श्रीलंका में सैन्य कार्रवाई के कारण विस्थपित हुए लोगों की सहायता के लिए बनाए गए शरणार्थी शिविरों की स्थिति पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि मैंने जब पिछली बार गत 22 मई को श्रीलंका का दौरा किया था तो पाया कि ऐसे शिविरों में करीब दो लाख 80 हजार लोग रह रहे हैं।

मून ने कहा कि हाल के दिनों में शिविरों में मानवीय मुद्दों को लेकर उन्होंने जो चिंताएं जताई थीं उनमें से कुछ को सरकार ने हल करने की कोशिश की है। इसके साथ ही सरकार ने यह प्रतिबद्धता जताई है कि वह इस वर्ष के अंत तक शिविरों में रह रहे लोगों में से 80 प्रतिशत शरणार्थी अपने घरों को लौट जाएंगे।

मून ने कहा कि शिविरों में रहे रहे नागरिकों को उनके घरों को लौटने की इजाजत देने के साथ ही सरकार को देश के अल्पसंख्यकों के साथ सामंजस्य स्थापित करने के प्रयास करने चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीलंका में बिगड़ सकती है स्थिति: मून